पोलिंग स्टाफ ईमानदारी व निष्ठा से संपन्न कराएं मतदान प्रक्रिया : सुशील सारवान

झज्जर,  समाचार क्यारी, सुनील कुमार/हिमांशु :-लोकसभा आमचुनाव 2019 के छठे चरण के तहत झज्जर जिला में होने वाले मतदान के लिए बादली, झज्जर (अ.जा.) व बेरी विधानसभा क्षेत्र के पोलिंग स्टाफ का प्रशिक्षण शिविर सोमवार को भी जारी रहा। बादली विधानसभा क्षेत्र के पोलिंग स्टाफ के लिए राजकीय नेहरू कॉलेज सभागार में, झज्जर (अ.जा.) विधानसभा क्षेत्र के लिए राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय सभागार तथा बेरी विधानसभा क्षेत्र के लिए संवाद भवन में प्रशिक्षण शिविर आयोजित हुआ।
65-बादली विधानसभा क्षेत्र के एआरओ व एडीसी सुशील सारवान तथा एसडीएम जगनिवास, 66-झज्जर (अ.जा.) की एआरओ व एसडीएम शिखा तथा 67-बेरी विधानसभा के एआरओ व एसडीएम डा. राहुल नरवाल ने विस्ताल से पोलिंग स्टाफ को मतदान से जुड़ी ड्यूटी से संबंधित जानकारी दी।
नेहरू कॉलेज सभागार में हुआ बादली के पोलिंग स्टाफ का प्रशिक्षण
बादली विधानसभा क्षेत्र के एआरओ व एडीसी सुशील सारवान ने कहा कि जिला निर्वाचन अधिकारी एवं उपायुक्त संजय जून के मार्गदर्शन में पोलिंग स्टाफ को विस्तार से उनके कर्तव्यों से अवगत कराया गया। उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव में सभी कर्मचारी अपने कर्तव्य का पूरी ईमानदारी व निष्ठा से पालन करें। उन्होंने कहा कि पोलिंग पार्टी की निष्पक्ष चुनाव संपन्न कराने में अहम भूमिका है। सभी पीठासीन व सहायक पीठासीन अधिकारी गंभीरतापूर्वक कार्य करते हुए लोकतंत्र के इस महात्यौर को सफल बनाए। इस अवसर पर एसडीएम बादली जगनिवास ने रिहर्सल के दौरान पीठासीन व सहायक पीठासीन अधिकारियों को कहा कि पोलिंग एजेंट के सामने मॉक पोल करवाकर एजेंट की संतुष्टि करवाना व उनके हस्ताक्षर करवाकर मतदान की प्रक्रिया शुरू करवानी अनिवार्य है। चुनाव आयोग की हिदायतानुसार मॉक पोल के दौरान कम से कम 50 बार वोट करना आवश्यक है। इस अवसर पर तहसीलदार मुखत्यार सिंह भी उपस्थित रहे।
अधिकारियों को होनी चाहिए संपूर्ण प्रक्रिया की जानकारी
बेरी विधानसभा के एआरओ व एसडीएम डा. राहुल नरवाल ने कहा कि मॉक पोल के दौरान किए गए वोट और वीवीपैट से निकलने वाली पर्चियों व कंट्रोल यूनिट में कुल वोट के मिलान होने पर, पोलिंग एजेंटस के हस्ताक्षर अवश्य करवाएं तथा मॉक पोल उपरांत इसका रिकॉर्ड रखना भी जरूरी है। उन्होंने कहा कि मॉक पोल के बाद ईवीएम को क्लीयर करने व ईवीएम को सील करने की प्रक्रिया पूरी करें तथा ईवीएम को वोटिंग के लिए तैयार करें। इसके बाद पोलिंग एजेंटस के समक्ष मतदान शुरू करवाने की घोषणा करनी होगी। उन्होंने कहा कि चुनाव को सफलतापूर्वक सम्पन्न करवाने के लिए यह जरूरी है कि अधिकारियों को चुनाव सम्बंधी प्रक्रिया के सभी पहलुओं की जानकारी हो।
पीओ डायरी एक महत्वपूर्ण डाक्यूमेंट
झज्जर विधानसभा की एआरओ एवं एसडीएम शिखा ने पावर प्वाईंट प्रस्तुति के माध्यम से चुनाव प्रक्रिया के सभी पहलुओं पर प्रकाश डालते हुुए कहा कि 12 मई को होने वाले लोकसभा चुनाव के लिए एक दिन पूर्व यानि 11 मई को सभी पीठासीन अधिकारी अपने-अपने बूथ पर पहुंचकर वहां की व्यवस्थाओं का निरीक्षण करेंगे और किसी भी प्रकार की कमी पाए जाने पर इसकी सूचना सम्बंधित एआरओ को देंगे। उन्होंने कहा कि पीठासीन अधिकारियों के लिए पीओ डायरी महत्वपूर्ण डॉक्यूमेंट है, जिसमें चुनाव के दौरान होने वाले पूरा घटनाक्रम को अंकित करना आवश्यक है। इस डायरी में कुल मतदाताओं, पुरूष मतदाताओं तथा महिला मतदाताओं से जुड़ी पूरी जानकारी चुनाव शुरू होने से पहले दर्ज हो। उन्होंने प्रशिक्षण के दौरान चुनाव में प्रयोग होने वाली सामग्री को टैग, सील व स्ट्रिप सील करने की भी जानकारी दी तथा क्लासिफाईड सर्विस वोटर के बारे में भी बताया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *