सडक़ पर वाहन चलाते समय सावधान रहिए, चालान के साथ-साथ 2 घण्टे सडक़ सुरक्षा नियमो की ट्रेनिंग के लिए गुजारने होंगे

करनाल  (कर्मबीर पन्नु)  सडक़ पर वाहन चलाते समय सावधान रहिए।़ नियम तोडऩे की गलती भारी पड़ सकती है। चालान के साथ-साथ 2 घण्टे सडक़ सुरक्षा नियमो की ट्रेनिंग के लिए गुजारने होंगे, तब वाहन मिलेगा। मंगलवार को सडक़ सुरक्षा समीति की मासिक बैठक में इस मुद्ïदे पर चर्चा के दौरान समीति के चेयरमैन एवं उपायुक्त डॉ. आदित्य दहिया ने ट्रेफिक पुलिस के इस निर्णय पर मोहर लगा दी और कहा कि पहले एक महीना कर देंखे, नियम तोडऩे वाले नही सुधरे तो इसे जारी रखेंगे। मिटिंग में इसी तरह के एक  महत्वपूर्ण मुद्ïदे पर चर्चा के दौरान उपायुक्त ने एन.एच.ए.आई. के अधिकारी से कहा कि करनाल शहर की सीमा में वाहनो की सुविधा के लिए कुछ ओर एंट्री-एग्जिट दी जानी अपेक्षित हैं, इनके लिए विभाग अन्नापत्ति प्रमाण पत्र दे दे, जिला प्रशासन अपने खर्चे से करवा लेगा।
 इस बार के एजेण्डा में शामिल बिन्दुओ के साथ राष्ट्रीय सडक़ सुरक्षा सप्ताह का बिन्दु भी शामिल था। इस पर अतिरिक्त उपायुक्त एंव आर.टी.ए. सचिव निशांत कुमार यादव ने विस्तार से बताया कि आगामी 4 फरवरी से 10 फरवरी तक सुरक्षा सप्ताह मनाया जाएगा। सप्ताह के दौरान पुलिस, एन.एच.ए.आई., लोक निर्माण विभाग, नगर निगम, हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण, मार्किटिंग बोर्ड, परिवहन विभाग, शिक्षा तथा स्वास्थ्य विभाग अपनी-अपनी जिम्मेदारी निभाकर लोगो को जागरूक करेंगे।
 मिटिंग में आर.टी.ए. सचिव व ट्रैफिक पुलिस के अधिकारी ने बीते मास की अपनी कारगुजारी का खुलासा किया। आर.टी.ए. सचिव ने बताया कि दिसम्बर मास में ओवरलोडिड वाहनो के 267 चालान किए गए। तिपहिया/ई-रिक्शा के 65 व स्कूल बसो के भी 35 चालान किए गए। इन सबसे 1 करोड़ 63 लाख रूपये की राशि वसूल की गई। पुलिस प्रतिनिधि ने बताया कि इस अवधि में बिना हेल्मेट ड्राईविंग के 3760, रेड लाईट जम्पिंग के 90, ओवर स्पीडिंग के 296, गलत पार्किंग के 106, गलत साईड ड्राईविंग के 514, सडक़ पर चलते समय मोबाईल प्रयोग के 197, शराब पीकर गाड़ी चलाने के 16, तीन सवारी के 352 तथा गलत लेन चेंज करने के 54 चालान किए गए।
 शहर के व्यस्त मार्ग ओल्ड कमेटी चौक, महावीर चौक तथा महात्मा गांधी चौक पर ट्रैफिक पुलिस द्वारा लगाई गई बेरिगेटिंग हटाने को लेकर मुद्ïदे पर काफी देर तक चर्चा हुई। इन्हे खोले या बंद रखें, इस पर अधिकारियों व गैर-सरकारी सदस्यों की ओर से मिश्रित प्रतिक्रिया दी गई। अंत में उपायुक्त की ओर से निर्णय लिया गया कि नगर निगम द्वारा महात्मा गांधी चौक की रि-डिजाइनिंग की जा रही है, तक तक यहां बैरिगेटिंग लगाकर इस कट को बंद रखा जाए। इस चौक से अस्पताल चौक तक सडक़ पर जो मेन होल है, नगर निगम उनका लेवल ठीक करे। उन्होने कहा कि ओल्ड कमेटी चौक या महावीर चौक दोनो में से किसी एक जगह की बैरिगेटिंग हटाकर देख लें, ताकि लोगो को यू-टर्न की सुविधा मिल सके। रोड सेफ्टी एसोसिएट, ट्रैफिक पुलिस के अधिकारी तथा कमेटी सदस्य सहित तीन लोग इसे एक सप्ताह में करके देख लें ओर इसे अगली मीटिंग में बताएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *