इस तरीके से पढ़ाई करके 22 साल की उम्र में हिमांशु ने बने IAS, 26वां रैंक पाया UPSC में

यूपीएससी भारत की सबसे मुश्किल परीक्षाओं में से एक मानी चाहती है। अगर आप कड़ी मेहनत करके यूपीएससी की परीक्षा पास करते हैं तो आप इसको जरूर पास कर सकते हैं। यह जरूर सुना होगा आपने कि यूवीएससी की परीक्षा पास करना इतना आसान नहीं होता है लेकिन यह नामुमकिन भी नहीं है। बता दें कि हिमांशु नागपाल जो कि 22 साल के हैं उन्होंने आईएएस बनने की ठान ली थी और उन्होंने यूपीएससी का एग्जाम दिया और पहली बार में पास कर लिया।

पंकज नागपाल जो हरियाणा के हिसार जिले के शहर हांसी निवासी में रहते हैं उनके पुत्र हिमांशु नागपाल ने यूपीएससी की परीक्षा दी है और उसमें उन्हें 26वीं रैंक मिली है। बता दें कि हिमांशु 22 साल के हैं और उन्होंने पहले ही प्रयास में परीक्षा पास करके यह इतिहास रचा है। हिमांशु नागपाल की इस उपलिब्ध के बाद उनके घर में जशन का माहौल बना हुआ है। हिमांशु की जैसे ही युपीएससी की परीक्षा का परिणाम आया वैसे ही उनके पूरे परिवार में एक खुशी का माहौल बन गया।

22 साल की उम्र में हिमांशु ने पास की यूवीएससी की परीक्षा

हिमांशु ने अपनी इस सफलता के बाद बात करते हुए कहा कि उन्हें अपने माता-पिता से जीवन में कुछ बनने की प्रेरणा मिली है। हिमांशु के परिवार वालों ने उनके जीवन में हर कमद पर पूरा साथ दिया है और उनका मार्गदर्शन भी किया है। जब हिमांशु स्कूल की पढ़ाई कर रहे थे तभी उन्होंने आईएएस बनने का फैसल कर लिया था। जैसे ही स्कूल की पढ़ाई खत्म हुई हिमांशु अपनी यूपीएससी की परीक्षा की तैयारी में लग गए थे। हिमांशु ने दिल्ली के एक सेंटर से कोचिंग ली और कड़ी मेहनत करके पूरे देश में 26वीं रैंक दर्ज कराई।

इसके साथ ही हिमांशु नागपाल की दादी शीला देवी ने बताया कि स्कूल के समय में ही हिमांशु अपनी पढ़ाई को लेकर बहुत गंभीर रहता था। वह हमेशा अच्छे नंबर लेकर आया। वह मकान की तीसरी मंजिल पर बैठकर घंटों तक पढ़ाई करता था। हिमांशु जब यूपीएससी की पढ़ाई दिल्ली में कर रहे थे तो उस दौरान वह अपने घर के कार्यक्रमों में बहुत कम आते थे। वह अपने घर पर दिवाली और होली के अवसर पर आते थे और उस समय भी वह यूवीएससी की परीक्षा की ही पढ़ाई करते रहते थे।हिमांशु ने बताया कि वह लोगों के लिए अपने जीवन में कुछ करना चाहते थे यही वजह थी कि वह यूवीएससी की परीक्षा को पास करना चाहते थे औैर उन्होंने एसा कर भी लिया। उन्हें कई मुश्किलों का समाना करना पड़ा था, लेकिन उनके परिवार ने हमेशा उनका साथ दिया। बता दें कि हांसी के श्री काली देवी विद्या मंदिर से हिमांशु नागपाल ने अपनी बारहवीं में टॉप किया था। उसके बाद हिमांशु ने दिल्ली विश्वविद्यालय के हंसराज कॉलेज से बीकॉम की पढ़ाई की। इसके साथ ही हिमांशु ने सीए की लेवल-टू की परीक्षा दी थी जिसमें वह दिल्ली के अंदर 9वें स्थान पर आए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *