विधायक जे एन गणेश और भीमा नाइक के साथ कथित झगड़े की खबरों के बाद पुलिस को अपना बयान दर्ज कराया

कर्नाटक के कांग्रेस विधायक आनंद सिंह ने विधायक जे एन गणेश और भीमा नाइक के साथ कथित झगड़े की खबरों के बाद पुलिस को अपना बयान दर्ज कराया है। आनंद ने पुलिस को बताया कि गणेश ने मुझे जान से मारने की कोशिश की थी। मेरे सर पर लाठी और फूलों के गुल्दस्ते से वार किया। उन्होंने मेरा चेहरा दीवार पर मारा और मेरे पेट में लात भी मारी जिसके बाद मैं नीचे गिर गया। आनंद ने आगे बताया कि गणेश ने कहा, मुझे पिस्तौल दो, मैं इस आदमी को मार दूंगा। आनंद के बयान पर पुलिस ने हत्या के प्रयास का मामला दर्ज कर विधायक गणेश की खोज शुरू कर दी है।

बता दें कि भाजपा की ओर से कांग्रेस के विधायकों को अपने पाले में करने की कथित कोशिशों के बीच सत्ताधारी कांग्रेस ने शुक्रवार को अपने विधायकों को रिजॉर्ट में रखा था। कथित झड़प में जख्मी हुए आनंद को रविवार को एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। झगड़े की खबर मिलने पर पार्टी ने गणेश पर कार्रवाई करते हुए उन्हें पार्टी से निलंबित कर दिया। गणेश पर साथी विधायक के साथ मारपीट को लेकर एफआईआर भी दर्ज की गई। गणेश को प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष दिनेश गुंडू राव के निर्देश पर वी वाई घोरपड़े ने पार्टी से निलंबित कर दिया।

कांग्रेस सरकार को रविवार को उस समय शर्मिंदगी का सामना करना पड़ा जब उसके विधायकों के बीच रिजॉर्ट में हुई मारपीट की खबर मीडिया में आ गई। इसने भाजपा को राज्य सरकार पर हमला करने का एक मौका दे दिया। हालांकि कांग्रेस ने विधायक आनंद सिंह और जेएन गणेश के बीच हुई मारपीट की खबरों का खंडन किया रिपोर्ट्स के अनुसार ईगलटन रिसॉर्ट में दोनों विधायकों के बीच मारपीट हुई जिसमें गणेशन ने आनंद सिंह के सिर पर बोतल मार दी। इसके बाद उन्हें अपोलो अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

अपोलो अस्पताल के कर्नाटक क्षेत्र के अतिरिक्त निदेशक डॉक्टर जी यतीश ने कहा, ‘विधायक को रविवार सुबह 7 बजे अस्पताल लाया गया था। उनके चेहरे और सिर पर चोट लगी थी। उनके सीने में भी दर्द था। उनका सीटी स्कैन कराया गया लेकिन उनकी स्थिति गंभीर नहीं है। चूंकि उन्हें सिर में चोट लगी है इसलिए हमने उन्हें 24 घंटे के लिए निगरानी में रखा है।’

पार्टी नेताओं ने इस घटना को दबाने की कोशिश की और कहा कि सिंह होटल में फिसल गए थे जिससे उन्हें चोट लगी है। भाजपा द्वारा विधायकों को अपने पाले में करने के डर से कांग्रेस ने उन्हें पिछले दो दिनों से रिसॉर्ट मे ठहराया हुआ था। शनिवार को हुई बैठक की अध्यक्षता पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने की थी। बैठक के बाद विधायक सिंह, गणेश, एलबीजे भीमा नाइक और मंत्री ई तुकाराम देर रात तक पार्टी कर रहे थे जिसमें लड़ाई हुई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *