‘हरियाणा में BJP और कांग्रेस में मुकाबला, JJP व INLD कोई फैक्टर नहीं’

हरियाणा विधानसभा चुनाव 2019 इस बार कांग्रेस की जीत का दम भर रहे पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा (Bhupinder Singh Hooda) ने जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) और इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) को लेकर एक बड़ा दावा किया है।

दो बार हरियाणा के मुख्यमंत्री रह चुके भूपेंद्र सिंह हुड्डा का कहना है कि जेजेपी और इनेलो इस बार किसी भी प्रतिस्पर्धा में नहीं हैं। उन्होंने कहा कि जेजेपी और इनेलो इस बार हरियाणा विधानसभा चुनाव में कोई फैक्टर नहीं हैं। राज्य में मुख्य मुकाबला सिर्फ भाजपा और कांग्रेस के बीच है और इसमें कांग्रेस ही विजयी होगी।

अपनी जीत के प्रति आश्वस्त दिख रहे हुड्डा ने दावा किया कि उनकी पार्टी इस बार पक्का जीतेगी क्योंकि भाजपा ने अपने वादे पूरे नहीं किए हैं।हुड्डा रोहतक जिले में अपने गढ़ गढ़ी सांपला-किलोई विधानसभा सीट से फिर चुनाव लड़ रहे हैं।

हरियाणा में कांग्रेस की ओर से खुद को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार मानकर चल रहे हुड्डा को लगता है कि राज्य में भारी बेरोजगारी के कारण कांग्रेस सत्तारूढ़ भाजपा से आगे है। अनुमान के अनुसार, राष्ट्रीय बेरोजगारी औसत 8.4 प्रतिशत के मुकाबले राज्य में 28.7 प्रतिशत बेरोजगारी है।

भाजपा ने 75 सीटें जीतने का लक्ष्य रखा

हरियाणा में 90 विधानसभा सीटों के लिए मतदान सोमवार सुबह सात बजे शुरू हो गया और शाम छह बजे तक जारी रहेगा। इस बार विभिन्न राजनीतिक दलों से 105 महिलाओं सहित 1,169 उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे हैं।

चुनाव लड़ रही प्रमुख हस्तियों में मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर, पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा, जेजेपी के दुष्यंत चौटाला और इनेलो के अभय सिंह चौटाला शामिल हैं। सोनीपत में सुबह मतदान करने वालों में हरियाणा की एकमात्र महिला मंत्री कविता जैन शामिल हैं। खट्टर के नेतृत्व में भाजपा ने 75 सीटें जीतने का लक्ष्य रखा है, जबकि कांग्रेस राज्य में वापसी करने की उम्मीद कर रही है। वर्तमान में राज्य विधानसभा में भाजपा के 48 सदस्य हैं।

हरियाणा के मुख्य चुनाव अधिकारी अनुराग अग्रवाल ने बताया कि कुल 19,578 मतदान केंद्र बनाए गए हैं, जिनमें से 13,837 केंद्र ग्रामीण क्षेत्रों में हैं।

पुलिस महानिदेशक मनोज यादव ने बताया कि सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं और 75,000 से अधिक सुरक्षाकर्मियों को तैनात किया गया है। इस उपचुनाव में 1.83 करोड़ से अधिक मतदाता मताधिकार का प्रयोग करेंगे, जिनमें 85 लाख महिलाएं, एक लाख से अधिक सेवा मतदाता और 252 ट्रांसजेंडर शामिल हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *