सूर्यग्रहण पर ब्रह्मसरोवर में चंद लोग ही लगाएंगे श्रद्धा की डुबकी

Spread the love

कुरुक्षेत्र. गीतास्थली कुरुक्षेत्र में 21 जून को लगने वाले सूर्य ग्रहण मेले पर कोरोना का महाग्रहण लग गया है। इस बार एशिया के सबसे बड़े ब्रह्मसरोवर में श्रद्धालु न केवल श्रद्धा की डु़बकी से वंचित रहेंगे, बल्कि धर्मनगरी में एंट्री पूरी भी तरह बैन रहेगी। अलबत्ता सूर्य ग्रहण पर स्नान की परंपरा न टूटे, इसको लेकर प्रशासन की ओर से चंद लोगों को स्नान की अनुमति दी गई है। इनमें धार्मिक संस्थाओं के पदाधिकारी व अखाड़ों के महंत शामिल हैं। अहम पहलू यह है कि स्नान से पहले उन सबका मेडिकल चैकअप और कोरोना टेस्ट होगा। जिस अखाड़े के महंत व धार्मिक संस्था के पदाधिकारी की रिपोर्ट निगेटिव आएगी, उसे ही स्नान की अनुमति दी जाएगी। इसके लिए बकायदा कुरुक्षेत्र विकास बोर्ड की ओर से कार्यालय में कोरोना के सैंपल लेने की शुरूआत कर दी गई है।

25 साल बाद ऐसा संयोग बनेगा
देशभर में 21 जून को मृगशिरा नक्षत्र में सूर्य ग्रहण दिखाई देगा। सूर्य ग्रहण मिथुन राशि मंगल के मृगशिरा नक्षत्र में लगेगा। ग्रहण के दौरान सूर्य के वलय पर चंद्रमा का पूरा आकार नजरआएगा। सूर्य का केन्द्र का भाग पूरा काला नजर आएगा, जबकि किनारों पर चमक रहेगी। ज्योतिषों के अनुसार 25 साल बाद ऐसी स्थिति बनेगी कि दिन में ही अंधेरा छा जाएगा। यह घटना 24 अक्टूबर 1995 को लगने वाले सूर्य ग्रहण के दौरान घटित हुई थी। 4

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *