एक्शन में सिद्धू: पंजाब के मुद्दों पर 21 को गवर्नर से मुलाकात करेंगे कांग्रेसी

Spread the love
समाचार क्यारी डेस्क , पंजाब में गहरा रहे वित्तीय, बिजली संकट और बिगड़ती कानून व्यवस्था को लेकर पंजाब कांग्रेस के नेता 21 अप्रैल को राज्यपाल बनवारी लाल पुरोहित से मुलाकात करेंगे। मंगलवार को बठिंडा में पंजाब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष नवजोत सिद्धू ने मीडिया को यह जानकारी दी। सिद्धू ने कहा कि प्रदेश की आप सरकार द्वारा बिजली माफी का जो निर्णय लिया गया है, वह पक्षपात वाला है।

प्रेस कॉन्फ्रेंस में सिद्धू ने कहा कि पंजाब के मुख्य मसलों को लेकर कांग्रेस के सभी नेता 21 अप्रैल को पंजाब के राज्यपाल को मिलने जा रहे हैं। वह राज्यपाल से पंजाब सरकार के वित्तीय संकट, बिजली संकट और बिगड़ रही कानून व्यवस्था को लेकर बातचीत करेंगे। सिद्धू ने कहा कि मुख्यमंत्री भगवंत मान के पैन से हरी स्याही खत्म हो चुकी है और नीली स्याही से पक्षपातपूर्ण निर्णय लिए जा रहे हैं जिसका उदाहरण बिजली माफी का निर्णय है। चुनाव से पहले आप ने हर वर्ग को यह सुविधा देने का वादा किया था। उन्होंने आरोप लगाया कि पंजाब सरकार प्रदेश के खजाने का दुरुपयोग कर बडे़ विज्ञापन जारी कर रही हैं, यहां तक कि दूसरे राज्यों में भी विज्ञापन दिए जा रहे हैं, जो गलत है। सिद्धू ने कहा कि पंजाब में अमन कानून की स्थिति पूरी तरह से बिगड़ चुकी है जिसकी तरफ पंजाब सरकार का कोई ध्यान नहीं है। सिद्धू ने कहा कि पंजाब सरकार को नशा मुक्ति केंद्र खोलने पड़ेंगे और दवाओं का प्रबंध करना पड़ेगा।

वड़िंग के साथ कोई नाराजगी नहीं : सिद्धू

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान नवजोत सिद्धू ने कहा कि पार्टी के नए प्रदेश अध्यक्ष अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग के साथ उनकी कोई नाराजगी नहीं है। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में विधानसभा में कांग्रेस ठोस तरीके से विपक्षी दल की भूमिका निभाएगी। इसके अलावा आने वाले समय में कांग्रेस की मजबूती के लिए पूरे प्रदेश में पार्टी वर्करों के साथ मीटिंग की जाएगी।

प्रेस कॉन्फ्रेंस में पूर्व विधायक हरविंदर लाडी, नवतेज चीमा, राजिंदर सिंह, हरदयाल कंबोज, सुनील दत्ती, सुरजीत धीमान, नजर मनशाहिया, करणवीर ढिल्लों, शेर घुबाया, पीरमल सिंह, जगदेव कमलू, विजय कालरा, राज बलविंदर, सतनाम सतराना और आशु बांगड़ मौजूद रहे। वहीं पूर्व वित्त मंत्री मनप्रीत बादल के साथी नजर नहीं आए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.