महागठबंधन को ‘सराब’ कहने पर अखिलेश और मायावती की कड़ी प्रतिक्रिया

Spread the love

मेरठ में गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के सपा, रालोद और बसपा गठबंधन को ‘सराब’ बताने पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव और बसपा प्रमुख मायावती ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। अखिलेश यादव ने कहा कि सराब और शराब का अंतर वे लोग नहीं जानते जो नफ़रत के नशे को बढ़ावा देते हैं। वहीं दूसरी ओर मायावती ने कहा कि व्यक्तिगत, जातिगत तथा साम्प्रदायिक द्वेष और घृणा की राजनीति करना बीजेपी एण्ड कम्पनी की शोभा है जिसके लिये उनकी सरकार लगातार सत्ता का दुरुपयोग करती रही है।

अखिलेश यादव ने प्रधानमंत्री मोदी के भाषण के बाद ट्विट कर कहा , ‘‘आज टेली-प्रॉम्प्टर ने यह पोल खोल दी कि सराब और शराब का अंतर वे लोग नहीं जानते जो नफ़रत के नशे को बढ़ावा देते हैं। सराब को मृगतृष्णा भी कहते हैं और यह वह धुंधला सा सपना है जो बीजेपी पांच साल से दिखा रही है लेकिन जो कभी हासिल नहीं होता। अब जब नया चुनाव आ गया तो वह नया सराब दिखा रहे हैं।”

मायावती ने ट्विट कर कहा, ”पीएम मोदी ने आज मेरठ से लोकसभा चुनाव अभियान की शुरूआत करते हुए कहा कि मैं अपना हिसाब दूंगा लेकिन विदेश से कालाधन वापस लाकर गरीबों को 15 से 20 लाख रुपये देने और किसानों की आय दोगुनी करने आदि जनहित के मुद्दों का हिसाब-किताब दिये बिना ही वे मैदान छोड़ गए। क्या चौकीदार ईमानदार है।’’

मायावती ने दूसरे ट्विट में कहा, ‘‘व्यक्तिगत, जातिगत और साम्प्रदायिक द्वेष तथा घृणा की राजनीति करना बीजेपी एण्ड कम्पनी की शोभा है जिसके लिये उनकी सरकार लगातार सत्ता का दुरुपयोग करती रही है। देशहित को सर्वोपरि मानकर ऐसी गरीब, लोकतंत्र और जनविरोधी सरकार से देश को मुक्ति दिलाने के लिए बसपा-सपा-रालोद ने गठबंधन किया है।’’

सपा प्रवक्ता मनोज राय धुपचंडी ने ट्वीट कर लिखा कि हिंदुस्तान को ‘नशा’ मुक्त बनाना है। सपा प्रवक्ता के इस ट्वीट के साथ फोटो साझा करते हुए नरेंद्र मोदी के ‘न’ और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के ‘शा’ को मिलाते हुए दोनों की जोड़ी को ‘नशा’ बताया है।मेरठ से चुनावी अभियान की शुरूआत करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने गुरुवार को कहा कि सपा के स, रालोद के रा और बसपा के ब को मिलाकर सराब बनती है जो कि सेहत के लिये खतरनाक होती है इसलिये इस गठबंधन से सावधान रहना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *