लोकसभा चुनाव 2019 : MP में थम गया चौथे एवं अंतिम चरण का चुनाव प्रचार

भोपाल : मध्य प्रदेश में लोकसभा चुनाव के चौथे एवं अंतिम चरण के तहत रविवार को आठ लोकसभा सीटों के लिये विभिन्न राजनीतिक दलों और उम्मीदवारों का चुनाव प्रचार शुक्रवार की शाम छह बजे समाप्त हो गया।

सभी पार्टियों ने चुनाव प्रचार में अपनी पूरी ताकत झोंक दी। हालांकि, इन सीटों पर मुख्य मुकाबला भाजपा और कांग्रेस के बीच है। इस दिन देश में हो रहे लोकसभा चुनाव का सातवां एवं अंतिम चरण है। जबकि मध्य प्रदेश में लोकसभा चुनाव का चौथा चरण है।

आधिकारिक जानकारी के अनुसार मध्य प्रदेश में चौथे चरण के चुनाव में कुल आठ लोकसभा सीटों देवास, उज्जैन, मंदसौर, रतलाम, धार, इंदौर, खरगोन एवं खण्डवा के लिये आगामी 19 मई को सुबह सात बजे से शाम छह बजे तक मतदान होगा।

वर्ष 2014 में इनमें से आठों सीटों पर भाजपा ने कब्जा किया था। हालांकि, रतलाम सीट के सांसद दिलीप सिंह भूरिया के निधन के बाद इस पर हुए उपचुनाव में कांग्रेस ने इस सीट को भाजपा से छीन लिया था और कांतिलाल भूरिया सांसद बने।

इसमें पूर्व केन्द्रीय मंत्री कांतिलाल भूरिया (रतलाम से कांग्रेस प्रत्याशी), पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरूण यादव (खंडवा से कांग्रेस प्रत्याशी), मध्य प्रदेश भाजपा के पूर्व अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान (खंडवा) एवं मीनाक्षी नटराजन (कांग्रेस प्रत्याशी मंदसौर) जैसे दिग्गज नेताओं की प्रतिष्ठा दांव पर है।

इन आठ सीटों पर कुल 82 प्रत्याशी मैदान में है, जिनमें से देवास में 6, उज्जैन में 9, मंदसौर में 13 , रतलाम में 9, धार में 7, इंदौर में 20, खरगोन में 7 और खण्डवा में 11 उम्मीदवार शामिल हैं।

चौथे चरण में प्रदेश में 8 संसदीय निर्वाचन क्षेत्र में कुल 18,411 मतदान केन्द्र एवं कुल एक करोड़ 49 लाख से अधिक मतदाता हैं। इनमें 11,202 सेवा मतदाता अपने मत का प्रयोग पोस्टल बैलेट से करेंगे।

इस चरण के चुनाव के लिये प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रतलाम एवं खंडवा सीटों के भाजपा प्रत्याशियों के लिए चुनावी सभाएं कर वोट मांगे। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने भी अपनी पार्टी के उम्मीदवार के लिए उज्जैन में चुनाव प्रचार किया। वहीं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपनी पार्टी के मंदसौर, खंडवा, उज्जैन, खरगोन एवं देवास सीटों के प्रत्याशियों के लिए चुनावी सभाएं की, जबकि कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने उज्जैन, रतलाम एवं इंदौर में अपनी पार्टी के उम्मीदवारों के समर्थन में सभाएं एवं रोड शो किये।

इनके अलावा, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ, मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान तथा निर्मला सीतारमण एवं नितिन गड़करी सहित अन्य केन्द्रीय मंत्री भी चुनाव प्रचार में सक्रिय रहे।

मध्य प्रदेश में कुल 29 लोकसभा सीटें है। छह सीटों के लिए मतदान 29 अप्रैल को, सात सीटों के लिए मतदान 6 मई और आठ सीटों के लिए मतदान 12 मई को हुआ था जबकि बाकी आठ सीटों के लिए 19 मई को मतदान होना है। मतगणना 23 मई को होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *