सैक्टर-4 पंचकूला में अर्थ एवं सांख्यिकी विश्लेषण विभाग द्वारा राज्यस्तरीय कार्यक्रम का आयोजन किया गया

Spread the love

–तीन दशक बाद आई गांव के हिस्से में सरकारी नौकरी और खेतों को मिला सिंचाई का पानी

— ग्रामीणों ने चौपाल पर संवाद कार्यक्रम के तहत जिला सूचना ,जनसंपर्क एवं भाषा विभाग की टीम के साथ सांझा की पिछले साढ़े साल की विकास गाथा

समाचार क्यारी, संजय शर्मा/ रवी कुमार:- देश की राजधानी दिल्ली से लगभग 60 किलोमीटर और जिला मुख्यालय से लगभग दस किलोमीटर की दूरी पर स्थित सदियों पुराने गांव औरंगपुर को मुख्यमंत्री मनोहर लाल के कुशल नेतृत्व में वर्तमान हरियाणा सरकार की पारदर्शी व भ्रष्टाचार मुक्त व्यवस्था ने पिछले साढ़े चार साल में कई तोहफे दिए हैं। सूचना, जनसंपर्क एवं भाषा विभाग द्वारा चलाए जा रहे विशेष प्रचार अभियान के दौरान गांव के सरपंच रामानंद व अन्य ग्रामीणों ने विभागीय टीम को बताया कि गांव के युवाओं को पहली बार हरियाणा सरकार में योग्यता के आधार पर एक दर्जन से ज्यादा युवाओं को सरकारी नौकरी मिली है। खेतों के लिए सिंचाई के लिए पानी मिला है,  शिक्षा के लिए राजकीय स्कूल अपग्रेड हुआ है और खेल व खिलाडिय़ों को बढ़ावा देने के लिए गांव में ओपन जिम सहित पार्क एवं व्यायामशाला बनवाई गई है, स्वच्छता का नया वातावरण बना है।
– तीन दशक बाद मिली सरकारी नौकरी
  चौपाल पर संवाद कार्यक्रम में गांव के सरपंच  रामानंद  व पंच नरेंद्र ने बताया कि लगभग 30-35 वर्ष पहले गांव के दो-तीन लोग नहरी विभाग में कच्चे बेलदार लगे थे,जो बाद में कई वर्ष बाद पक्के हुए थे। इसके अलावा हमारे गांव से कोई भी व्यक्ति हरियाणा सरकार में नौकरी नहीं लगा था। पिछले साढ़े चार साल में एक दर्जन युवाओं को हरियाणा सरकार और तीन युवाओं को केंद्र सरकार में टेस्ट पास करने उपरांत अपनी योग्यता के आधार पर नौकरी मिली है। युवाओं को हरियाणा पुलिस और ग्रुप डी में भी नौकरी मिली हैं। योग्यता के आधार पर नौकरी शुरू हुई है जब से गांव के युवा और मन लगाकर पढ़ाई करने लगे हैं। ग्रामीणों ने कहा योग्यता के आधार पर नौकरी शुरू हुई तो हमारे बच्चों के हिस्से में भी नौकरी आ गई पहले कहां मिली, हमारे गांव के बच्चों को सरकारी नौकरी।
— खेती के लिए मिला सिंचाई का पानी
   ग्रामीणों ने बताया कि गांव में लगभग 250 परिवार हैं और 6500 बीघे खेती की जमीन है। गांव के लोगों की आजीविका का मुख्य स्त्रोत खेती, पशुपालन और गुरूग्राम की प्राइवेट कंपनियों में नौकरी रहा है। खेती के लिए सिंचाई का पानी उपलब्ध नहीं था, लगभग बरसात पर आधारित खेती होती थी। हलके के  विधायक और कृषि मंत्री औम प्रकाश धनखड़ ने गांव की समस्या को समझा और ड्रेन नंबर आठ से गांव तक पानी लाने के लिए नाला बनवा दिया। नाला बनते ही ग्रामीणों की मौज हो गई, ड्रेन नंबर आठ से खेती के लिए भरपूर सिंचाई का पानी मिलने लगा। ग्रामीण दर्शन ने कहा कि सरकारी नौकरी मिलने लगी और खेतों के लिए पानी भी मिलने लगा , म्हारे गांव के जरूर अच्छे दिन धनखड़ साहब ने ला दिए। पहले विधायक देखने को नहीं मिलते थे काम तो दूर की बात थी। अब धनखड़ साहब गांव में आकर पूछते हैं कि बताओ गांव में क्या काम करवाना है।
–राजकीय स्कूल हुआ अपग्रेड 
 औरंगपुर गांव की साक्षरता दर 80 प्रतिशत से अधिक है। लिंगानुपात भी वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार 919 है। गांव के सरपंच रामानंद ने बताया कि गांव में काफी पुराना प्राइमरी स्कूल था, पांचवी पास करने बाद बच्चों का आस-पास के गांवों में पढ़ाई के लिए जाना पड़ता था। गांव में विधायक बनकर आए तो धनखड़ साहब को बताया, उसने हामी भरी और स्कूल को अपग्रेड करवा दिया । अब गांव का राजकीय स्कूल मिडल तक हो गया है।
— पार्क,व्यायामशाला व ओपन जिम ने बदली गांव की फिजा 
 पंच नरेंद्र ने बताया कि पहले बच्चों व महिलाओं के लिए गांव में घूमने फिरने की जगह नहीं थी। गलियों में ही बच्चों को खेलना पड़ता था। विधायक औम प्रकाश धनखड़ ने गांव में सुंदर पार्क एवं व्यायामशाला बनवा दी। इसमें शहरों की भांति ओपन जिम भी लगवा दिया। सुबह -शाम बच्चे, महिलाएं, पुरूष व्यायामशाला में घूमने के  लिए आते हैं। सुबह -शाम पार्क एवं व्यायामशाला में माहौल देखते ही बनता है। बच्चों व युवाओं में खेलों के प्रति रूझान बढ़ रहा है।
 —  स्वच्छता ने बदली गांव की सोच 
  सरंपच रामानंद ने बताया कि लगभग सभी घरों में टायलेट बन हुए हैं, अब सुबह पानी का लोटा या बोतल लेकर शौच के लिए नहीं जाना पड़ता। शौचालय बनने से सबसे ज्यादा फायदा बेटियों व महिलाओं को हुआ है। ग्रामीण अब स्वच्छता के प्रति जागरूक होने लगे हैं। सफाई कर्मचारी नहीं पंहुचने पर तुरंत मामला पंचायत के संज्ञान में लाने लगे हैं। उन्होंने बताया कि गांव की सबसे अच्छी बात यह है कि सभी वर्गों के बीच आपसी भाईचारा है। आपसी विवाद होने पर ग्रामीण पुलिस -कचहरी में जाने की बजाए,आपसी मामलों को सुलझाने के लिए गांव में ही बैठकर पंचायती तरीके से ही सुलझाने को प्राथमिकता देते हैं।
— योग्यता के आधार पर नौकरी युवाओं का हक -बोले कृषि मंत्री
  योग्यता के आधार पर नौकरी पाना युवाओं का हक है । हमारी सरकार ने युवाओं को उनका वाजिब हक देने का काम किया है। हमारी सरकार ने व्यवस्था को मजबूत करते हुए बिना पर्ची-खर्ची के नौकरी देने का काम किया है। ऑनलाइन टीचर ट्रांसफर, शिक्षित पंचायत, कठोर गो सुरक्षा कानून, समय पर खाद बीज मुहैया करवाना, टेल तक सिंचाई का पानी पंहुचाना, किसानों को फसलों के लागत मूल्य का डेढ़ गुणा भाव देना, भावांतर भरपाई योजना के तहत संरक्षित मूल्य बढ़ाना, बाजरे को सरकारी रेट 1950 रूपये और सरसों की खरीद 4200 रूपये प्रति क्विटंल करना सहित अनेक ऐसे फै सले अंतोदय की भावना से हमारी सरकार ने लिए है जिससे समाज के सभी वर्गो का जीवन स्तर सुधरा है। — औम प्रकाश धनखड़ विधायक बादली एवं कृषि एंव किसान कल्याण मंत्री हरियाणा सरकार।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *