पहलवान उमेश कुमार बना भारत केसरी 6 महीने के अंदर प्रथम श्रेणी के 15 पहलवानों को किया चित

आखरी गांव में पंजाब के प्रितपाल को हरा हासिल किया खिताब

झज्जर ,समाचार क्यारी, हरियाणा के झज्जर जिला से ऐतिहासिक गुरु जी लीलू अखाड़ा लालपुर के पहलवान उमेश कुमार ने हासिल की भारत केसरी की पदवी हिमाचल के बिलासपुर में हुई प्रतियोगिता में फाइनल में पंजाब से प्रथम श्रेणी के पहलवान प्रीतपाल को चित कर हासिल किया खिताब । बता दें गुरु जी लीलू अखाड़ा झज्जर का सबसे पुराना और प्रसिद्ध अखाड़ा है जहां से बंसी पहलवान और अशोक पहलवान जैसे कई राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय प्रख्यात पहलवान निकले हैं ।
समाचार क्यारी के संवाददाता पहुंचे गुरु जी लीलू अखाड़ा लालपुर मैं जहां अखाड़े के बाकी पहलवानों सहित खुद उमेश कुमार व उनके गुरु मौजूद थे वहां उनसे बातचीत हुई तो उमेश के गुरु ने यह जानकारी दी कि उमेश इस प्रतियोगिता की तैयारी पिछले 1 साल से कर रहा था जिसके अंदर करीब 6 महीने में है उमेश ने देशभर के प्रथम श्रेणी के कम से कम 15 पहलवानों को पटखनी दी ।
और भारत केसरी की पदवी के लिए होने वाला मुकाबला जो हिमाचल के बिलासपुर मैं आयोजित हुआ उस मुकाबले में इस वक्त देश में सबसे ज्यादा मशहूर और पसंद किए जाने वाला पहलवान पंजाब के फगवाड़ा से प्रीत पाल प्रतिद्वंदी था जिसे उमेश कुमार ने हराया और भारत केसरी की पद भी अपने साथ इस अखाड़े के नाम की । गुरु जी ने आगे कहा उन्हें  गर्व है है कि उनका एक और शिष्य शिष्य आज भारत केसरी की पदवी पा चुका है इस सफलता के लिए गुरुजी ने उमेश की मेहनत और जैन संकल्प को श्रेय दिया । वही जब उमेश से बाकी गई तो उनका कहना था कि उन्होंने प्रतियोगिता से पहले ही मन में यह ठान लिया था की यह किताब उन्हें अपने गुरु जी के लिए लेकर जाना है यही उनकी गुरु दक्षिणा होगी और यही वजह थी कि वह अपने इस लक्ष्य को पाने में सफल रहे ।
भविष्य में अपनी तैयारियों  के बारे में बताते हुए उमेश ने बताया कि भारत केसरी की पदवी के बाद अब उनका लक्ष्य अंतरराष्ट्रीय स्तर पर देश का नाम रोशन करना है उनका लक्ष्य अंतरराष्ट्रीय थे ओलंपिक में मेडल लाना होगा ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *