पेयजल व सीवरेज व्यवस्था के लिए रात दिन सजग विभाग

झज्जर,(समाचार क्यारी )

 

कोरोना वैश्विक महामारी के खिलाफ पूरा राष्ट्र एकजुट हो जहां सोशल डिस्टेंस व घरों में रहने का पाठ पढ़ और पढ़ा रहा है वहीं जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग के कर्मचारी जल योद्धा बनकर नींव के पत्थरों की भांति जनता की आंखों से दूर आमजन को पेयजल उपलब्ध करा अपना कर्तव्य और मानवता धर्म निभा रहे हैं। विभाग के अधिकारी जहां रणनीति तैयार कर उन्हें अमलीजामा पहना रहे हैं वहीं कर्मचारी घर घर गली गली जाकर पेयजल हर घर तक पहुंचाया जाना सुनिश्चित कर रहे हैं। इस सफल प्रयास के पीछे सबसे अहम भूमिका निभाई विभाग के अधीक्षण अभियंता जगबीर सिंह मलिक ने। अधीक्षण अभियंता जगबीर सिंह मलिक के नेतृत्व में 8 प्रथम/द्वितीय श्रेणी, 36 तृतीय श्रेणी के साथ 526 कर्मचारी जुटे सेवा में उपचारित पेयजल के साथ बलीचिंग पाऊडर उपलब्ध करा सेनेटाइजेशन में अहम भूमिका निभा रहे हैं।

सुचारू व्यवस्था के लिए नॉडल अधिकारी नियुक्त कर बनाया कंट्रोल रूम:
झज्जर परिमंडल कार्यालय में कंट्रोल रूम स्थापित किया गया है जहां एक प्रथम श्रेणी अधिकारी के साथ एक द्वितीय श्रेणी अधिकारी व दो तृतीय श्रेणी अधिकारियों सहित करीब एक दर्जन कर्मचारी 24 घंटे मैदान में जुटे हैं।

550 कर्मचारियों की सेना लड़ रही है पेयजल की लड़ाई:
जिले में शहरी व ग्रामीण क्षेत्र में पेयजल व्यवस्था को विभाग के करीब 550 अधिकारी व कर्मचारियों के सहयोग से पेयजल व्यवस्था के साथ साथ सीवरेज व्यवस्था को भी सुचारू रूप से चलाया जा रहा है। जबकि विभाग में निर्धारित संख्या से 40 प्रतिशत कम स्टॉफ मौजूद है इसके बावजूद ग्रामीण क्षेत्र में कोई भी ऐसा गांव नहीं है जहां गर्मी के बावजूद पानी की किल्लत आम जन को महसूस होने दी हो।

जिले के 3 गांव को दी कोरोना महामारी में वाटर सप्लाई स्कीम की सौगात:
अधीक्षण अभियन्ता जगबीर सिंह मलिक न बताया कि विभाग के अधिकारियों,कर्मचारियों की अथक मेहनत से जिले के गांव सुलौधा, गिजाड़ौद व  कड़ोदा में लॉक डाउन के दौरान विभिन्न समस्याओं के बावजूद पेयजल आपूर्ति परियोजनाओं के निर्माण का कार्य पूरा करते हुए तीनों गांव के लोगों की प्यास बुझाने का कार्य किया। इसके लिए सभी संबंधित अधिकारी व कर्मचारी बधाई के पात्र हैं।

शेल्टर होम व अनाज मंडी में कोरोना के खिलाफ जंग लड़कर प्यास बुझाई:
जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग के अधिकारियों व कर्मचारियों न मजबूती से काम करते हुए जिले भर की अनाज मंडियों में कोरोना आपदा के दौरान पेयजल आपूर्ति सुचारू रखते हुए पानी के टैंकर पहुचाएं जा रहे हैं वहीं जिला प्रशासन द्वारा प्रवासी मजदूरों व अन्य जरूरतमंदों के लिए बनाए गए शेल्टर होम में भी निर्बाध पेयजल आपूर्ति जारी रखी है।

कोरोना ट्रीटमेंट सेंटर एम्स बाढ़सा की पेयजल व्यवस्था निर्बाध जारी :
जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग ने कोरोना पीडि़तों और कोरोना योद्धा स्वास्थ्य कर्मियों के लिए बाढ़सा स्थित एम्स में जहां पेयजल आपूर्ति को  24 घंटे सुचारू रखा है वहीं ट्रीटमेंट प्लांट भी विभाग के कर्मचारियों की मेहनत से निर्बाध चल रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *