51 दिनों बाद पटरियों पर दौड़ीं 8 पैसेंजर ट्रेनें, करीब 14 हजार लोगों ने किया सफर

लॉकडाउन के चलते जो जहां था वहीं फंसकर रह गया। अपनों से दूर फंसे ये लोग जब बुधवार को घर पहुंचे तो इनकी खुशी का ठिकाना नहीं था। कुछ के तो आंखों से आंसू छलक आए तो कईयों ने केंद्र सरकार को थैंक्यू बोला।

घर पहुंचने पर क्या बोले पैसेंजर्स ? 

  • दिल्ली से भुवनेश्वर पहुंची माही अपनी आपबीती साझा करती हैं। कहती हैं, ”मैं आर्टिस्ट हूं। दिल्ली गई थी शूट पर। तभी लॉकडाउन हो गया और हम लोग वहीं फंस सगए। हमने सरकार के फैसलों को माना और संक्रमण से बचने के सारे प्रिकॉशंस अपनाए। आज वापस घर आकर काफी अच्छा लग रहा है।”
  • स्पेशल ट्रेन से मुंबई से दिल्ली पहुंचे एक यात्री कहते हैं ” मैं काफी समय से ट्रेन, फ्लाइट शुरू होने का इंतजार कर रहे थे। मुंबई काम से गया था और वहीं फंस गया। वहां हालात काफी खराब है। हर रोज डर लगा रहता था। अब वापस घर आकर खुशी मिल रही है। इतने दिनों बाद बच्चों से मिल पाऊंगा।”
  • अहमदाबाद से दिल्ली पहुंची वंदना बताती हैं, ” मैं पिछले 55 दिनों से अहमदाबाद में अपने रिश्तेदार के यहां फंसी थी। मुझे खुशी है कि रेलवे ने ट्रेन चलाई। मैं तीन घंटों से टिकट बुक करने की कोशिश करती रही। भाग्यशाली रही कि मुझे आखिरकार टिकट मिल ही गया।” वंदना आगे कहती हैं कि इन स्पेशल ट्रेनों के चलने से लोगों की जिंदगी वापस सामान्य हो सकेगी।
  • जयपुर से दिल्ली पहुंचे एक यात्री के आंखों में आंसू आ गए। बताते हैं कि वह अपने परिवार के साथ चेन्नई से जयपुर गए थे। लॉकडाउन के कारण वहीं फंस गए। अब वह दिल्ली पहुंच चुके हैं। यहां से अब वह चेन्नई के लिए ट्रेन पकड़ेंगे। उन्होंने सरकार से इस तरह की और ट्रेनें शुरू करने की मांग की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *