हरियाणा के शहर बनेंगे सर्वोत्तम, ऐसे बदलेगी सूरत

हरियाणा के कई शहर अब सर्वोत्तम शहर बनेंगे। इन शहरों में 24 घंटे बिजली के साथ-साथ 18 घंटे पेयजल सुविधा रहेगी। जबकि ये शहर पूरी तरह आवारा पशु मुक्त बनेंगे, यहां पार्कों का आधुनिकीकरण और सीवीटीवी जैसी सुविधाओं से लैस होंगे। सरकार इसके लिए जल्द ही ‘मेरा शहर सर्वोत्तम शहर’ योजना शुरू करने जा रही है।

इस योजना के पीछे सरकार की मंशा प्रदेश के छोटे-छोटे शहरों को भी स्मार्ट बनाना है। उल्लेखनीय है कि प्रदेश के 22 जिले में 80 शहर मौजूद हैं, जिनमें से पहले चरण में इस योजना के तहत कुछ शहरों का चयन किया जाएगा।

ये इरादा वित्तमंत्री मनोहर लाल ने बजट के दौरान पेश किया। इसी के चलते सरकार ने शहरी स्थानीय निकाय विभागों के सशक्तीकरण के साथ ही उन्हें स्वाययता देने के लिए प्रतिबद्ध है और इसके लिए इस वर्ष 4916.51 करोड़ रुपये आवंटित किये गए हैं।

मनोहर लाल ने सदन में यह भी बताया कि  नगर निगमों के मेयर पद के साथ-साथ अब नगर परिषदों व नगरपालिकाओं में प्रधान के पद पर प्रत्यक्ष चुनाव का प्रावधान बनाया गया है। यानी प्रधान भी अब सीधे जनता चुनेगी। अभी तक नप व नपा प्रधानों का चयन नगर पालिका और परिषद में चुने गए पार्षदों की वोटिंग से होता था।

इसी के तहत वर्ष 2020-21 से सभी शहर के सभी मार्गों पर समुचित प्रकाश के लिये एक नई योजना ‘जगमग शहर योजना’ का प्रस्तावित है, जिसके अंतर्गत सभी शहरी क्षेत्रों के लगभग 5 लाख लाइट प्वाइंटों को एलईडी लाइट से बदला जाएगा। कुछ चुने हुये शहरों के सर्वांगीण विकास के लिये भी ‘मेरा शहर सर्वोत्तम शहर’ नामक एक नई योजना बनाई गई है। 

इस योजना के तहत चयनित किये गये शहरों में आधुनिक जन सुविधाओं जैसे न्यूनतम 18 घंटे पेयजल वितरण, आवारा पशु मुक्त बनाना, पार्कों का आधुनिकीकरण, प्रमुख चौराहों एवं सार्वजनिक स्थानों पर सीसीटीवी कैमरे की व्यवस्था, सार्वजनिक स्थलों पर शौचालयों की व्यवस्था, एक मुख्य सड़क पर बिजली के तारों को भूमिगत करना इत्यादि का प्रबंध किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *