जिले में पिछले एक माह के अंदर मिले तीन लावारिस नवजात बच्चे,जिसमें दो मृत एक जिंदा:-रीना फोगाट

समाचार क्यारी करनाल(कर्मबीर),

करनाल जिला बाल संरक्षण अधिकारी रीना फोगाट द्वारा जानकारी देते हुए बताया गया कि करनाल जिले में पिछले एक माह के अंदर-अंदर तीन नवजात बच्चे एक लड़का सालवन, एक लड़का राहडा तथा एक लड़की सेक्टर-12 करनाल से लावारिस हालत में पाए गए हैं, जिनमें से एक लड़के व एक लड़की जब मिले तब उनकी मृत्यु हो चुकी थी, जो कि एक शर्मनाक व दर्दनाक घटना है। इस तरह की घटनाएं लोगों की बच्चों के प्रति असंवेदनशीलता को दर्शाती हैं ।

उन्होंने बताया कि वह  जिला बाल संरक्षण अधिकारी होने के साथ-साथ एक मां भी हैं। इस तरह की घटनाओं से बहुत दर्द व पीड़ा महसूस होती है। जिला बाल संरक्षण अधिकारी द्वारा करनाल की आम जनता से अपील करते हुए जानकारी दी गई कि यदि कोई व्यक्ति या परिवार एक बच्चे को पैदा करता है तो उसके पालन-पोषण व संरक्षण की पहली जिम्मेदारी बच्चे के माता-पिता की होती है, परंतु फिर भी यदि किन्हीं परिस्थितियों या मजबूरी के कारण कोई व्यक्ति या परिवार अपने बच्चे को पालने में असमर्थ है तो वह अपने बच्चों की जिंदगी से खिलवाड़ करते हुए इधर-उधर न  फेंके, ऐसा करके वह बच्चे की जिंदगी को खतरे में डालकर स्वयं भी अपराध का हिस्सा बन जाते हैं। बच्चे की जिंदगी को सुरक्षित रखने के लिए वह परिवार अपने बच्चे को जिले में कार्यरत बाल कल्याण समिति करनाल के समक्ष सरेंडर कर सकते हैं। ऐसे व्यक्ति की सूचना गुप्त रखी जाती है। यदि ऐसा परिवार किसी डर के कारण सामने आकर बच्चा सरेंडर  नहीं करना चाहता है तो वह करनाल जिले में स्थित एमडीडी बाल भवन फूसगढ़ बाल संरक्षण संस्था के मेन गेट पर स्थित पालना घर में बच्चे को सुरक्षित छोड़ सकता है जिससे बच्चे को संरक्षण मिल सके।

प्रबंधक एमडी डी बाल भवन फूसगढ़  पीआर नाथ द्वारा जानकारी देते हुए बताया गया कि एमडीडी बाल भवन के मेन गेट पर पालनाघर नवंबर 2014 में स्थापित किया गया था, जिसमें अभी तक 14 बच्चे मिले हैं जिन्हें सारी कानूनी कार्यवाही अमल में लाने उपरांत गोद देने की प्रक्रिया में डाला जा चुका है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *