किसान आंदोलन के रुप में एक और महाभारत का साक्षी बन रहा कुरुक्षेत्र

किसान आंदोलन के रुप में एक और महाभारत का साक्षी बन रहा कुरुक्षेत्र

  • किसानों पर लाठीचार्ज के मामले में सरकार ने साधी चुप्पी, लगातार हमला बोल रहा विपक्ष

 

  • किसानों के आंदोलन को समर्थन देने पहुंचे कांग्रेस और इनेलो के दिग्गज

समाचार क्यारी ,जंगशेर राणा, चंडीगढ़ :-

केंद्र सरकार द्वारा लाए गए 3 नए कृषि अध्यादेशों के खिलाफ सड़क पर उतरे किसानों और सरकार के बीच प्रदेश के कुरुक्षेत्र में एक और महाभारत शुरु हो चुका है। वीरवार को कुरुक्षेत्र के पीपली में नेशनल हाईवे को जाम कर विरोध प्रदर्शन कर रहे किसान नेताओं और किसानों पर लाठी चार्ज करने की कार्रवाई की जाने के बाद आंदोलन ने तूल पकड़ लिया है। किसान नेताओं और किसानों को इस मामले में शांति भंग करने के आरोप में नामजद करने को लेकर भी घोर रोष व्यक्त किया जा रहा है। इस आंदोलन को लेकर विपक्ष लगातार सरकार पर हमले बोल रहा है जबकि सरकार अभी मौन है।

नेताओं ने क्या कहा?

 

  • किसानों को पुलिस पीट रही थी या भाजपा-जजपा के गुंडे: सुरजेवालाकुरुक्षेत्र के पीपली पहुंचे कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने प्रश्न किया कि जींस और टी-शर्ट में किसानों को पीटने वाले पुलिसकर्मी थे या भाजपा-जजपा के गुंडे? किसानों से मुलाकात करते हुए सुरजेवाला ने कहा कि हरियाणा में खट्टर सरकार की गुंडागर्दी और पुलिस के जुल्म का नंगा नाच कुरुक्षेत्र की रणभूमि में पूरे देश ने देखा। सीधे सिर में लाठियों से वार किया गया, जिसमें सैकड़ों लोग घायल हो गए। यहां तक कि जींस और टी-शर्ट में पुलिस का हेल्मेट पहने कई लोग किसानों को पीटते देखे गए। ये पुलिसकर्मी थे या भाजपा-जजपा के प्राइवेट गुंडे। दुष्यंत चौटाला पर  निशाना साधते हुए सुरजेवाला ने कहा कि खट्टर-दुष्यंत चौटाला की जोड़ी का नाम इतिहास में उन दुर्दांत शासकों के तौर पर लिखा जाएगा, जिनका शासन किसान-आढ़ती-मजदूर पर ‘दमन और जुल्म’ की निशानी बन गया है। बुजुर्ग लोगों को तक बेरहमी से पीटा गया। सरदार गुरनाम सिंह चडूनी सहित पूरे प्रदेश के किसानों और व्यापारियों के नेताओं पर दमन चक्र चलाया गया। सवाल यह भी है कि अगर मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर भाजपा अध्यक्ष के पद ग्रहण की रैली कर सकते हैं, तो फिर किसान और आढ़ती पर यह जुल्मो-सितम क्यों? लाठी-डंडे-गोली से खट्टर-दुष्यंत चौटाला की जोड़ी हरियाणा को नहीं चला सकती।

 

  • किसानों भाइयों के साथ गुंडागर्दी नहीं कर सकती खट्टर सरकार: भूपेंद्र हुड्डाप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कुरुक्षेत्र के पीपली पहुंचकर किसानों को पूर्ण समर्थन और सहयोग करने का आश्वासन देते हुए कहा कि हमारे किसान भाइयों के साथ प्रदेश की खट्टर सरकार गुंडागर्दी नहीं कर सकती है। सरकार ने किसानों पर लाठी चार्ज करके जो घोर अन्याय किया है, उसका जवाब अवश्य ही मिलेगा। लोकतंत्र में सबको अपनी आवाज उठाने का अधिकार है। खट्टर सरकार किसानों की आवाज को दबा नहीं सकती है।  सरकार की इस तानाशाही पर विपक्ष चुप नहीं रहेगा। हम इस आंदोलन में किसानों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े हैं। 3 नए कृषि अध्यादेशों को बिना सी-2 फार्मूले वाली एमएसपी के लागू नहीं होने दिया जाएगा। कोई भी कानून जो हमारी एमएसपी और मंडी व्यवस्था को खत्म करेगा, हम उसका पुरजोर विरोध करेंगे। हुड्डा ने इसके विरुद्ध पूरे प्रदेश में किसानों के साथ मिलकर वृहद आंदोलन चलाने की चेतावनी दी।

 

  • किसानों के साथ धोखा कर रही है मोदी सरकार: शैलजाकुरुक्षेत्र में हुए किसानों के साथ हुए अन्याय पर गहरा दुख व्यक्त करते हुए कांग्रेस की हरियाणा प्रदेशाध्यक्ष कुमारी शैलजा ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार ने 3 नए काले कृषि अध्यादेशों को लाकर देशभर के किसानों के साथ अन्याय करने का काम किया है। सरकार के इशारे पर कुरुक्षेत्र में किसानों पर लाठीचार्ज करना घोर अन्याय है और इसका खामियाजा हरियाणा में खट्टर सरकार के साथ केंद्र में मोदी सरकार को भुगतना पड़ेगा। कुमारी शैलजा ने कहा कि कांग्रेस किसानों के साथ केंद्र सरकार द्वारा किए जा रहे धोखे को होने नहीं देगी और कृषि अध्यादेशों के खिलाफ पूरे देश भर में आंदोलन चलाया जाएगा।

 

  • अभय चौटाला भी बरसे सरकार परइनेलो नेता अभय चौटाला ने भी कुरुक्षेत्र की घटना पर गहरा दुख व्यक्त करते हुए सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि इनेलो किसानों के साथ खड़ी है और बीजेपी-जेजेपी सरकार द्वारा किसानों पर किए गए इस अत्याचार का जवाब अवश्य ही लिया जाएगा। किसानों की आवाज को दबाने वाले को जनता कतई माफ नहीं करेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *