आयुष्मान भारत : जरूरतमंदों के लिए वरदान बनी प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना

झज्जर, समाचार क्यारी, सुनील कुमार, हिमांशु :- उपायुक्त संजय जून ने वर्तमान प्रदेश सरकार के सफलतापूर्वक लगभग पौने पंाच वर्ष का कार्यकाल पूरा होने के उपलक्ष्य में सूचना, जनसंपर्क एवं भाषा विभाग चलाए जा रहे विशेष प्रचार अभियान के तहत आयुष्मान भारत -प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि झज्जर में  अभी तक लगभग 45 हजार पात्र व्यक्तियों के गोल्डन कार्ड बन चुके हैं।
श्री संजय जून ने बताया कि आयुष्मान भारत योजना के तहत पात्र लोगों के गोल्डन कार्ड पहले झज्जर, बेरी और बहादुरगढ़ के नागरिक अस्पतालों में ही बनते थे। पात्र लोगों की सुविधा के लिए अब जिला में 11 सूचीबद्घ प्राइवेट अस्पतालों में भी गोल्डन कार्ड बनाए जा रहे हैं। उपायुक्त ने कहा कि सैक- 2011 सूची में शामिल पात्र लोगों को अपना गोल्डन कार्ड जरूर बनवाना चाहिए। गोल्डन कार्ड बनने पर पात्र व्यक्ति के लिए नागरिक अस्पताल या सूचीबद्घ प्राइवेट अस्पतालों में पांच लाख रूपये तक प्रति वर्ष निशुल्क ईलाज का प्रावधान किया गया है। उपायुक्त ने कहा कि आयुष्मान भारत -प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना दुनिया की सबसे बड़ी निशुल्क स्वास्थ्य योजना है। जरूतमंदों के लिए आयुष्मान भारत योजना स्वास्थ्य सुरक्षा कवच की भांति कारगार साबित हो रही है।
— जिला में 1817 पात्रों ने लिया कराया निशुल्क ईलाज 
    उपायुक्त श्री जून ने बताया कि योजना का लाभ सभी पात्र व्यक्तियों तक पंहुचाने के लिए जिला स्वास्थ्य विभाग द्वारा बेहतर कार्य किया जा रहा है। जिला में योजना के तहत अभी 1817 लोगों ने निशुल्क उपचार करवाया है। इन पात्र व्यक्तियों के उपचार पर कुल दो करोड़, छह लाख, 85 हजार 34 रूपये खर्च हो चुके हैं। झज्जर में नागरिक अस्पतालों सहित 11 अन्य सूचीबद्घ प्राइवेट अस्पतालों में भी निशुल्क उपचार व गोल्डन कार्ड बनवाने की सुविधा उपलब्ध कराई गई है, ताकि पात्र व्यक्ति को निशुल्क उपचार के लिए घर से ज्यादा दूर न जाना पड़े।
— नागरिक अस्पताल में हुई हिप व घुटने रिप्लेसमेंट सर्जरी 
    उपायुक्त ने बताया कि आयुष्मान भारत योजना पिछले वर्ष सितंबर माह में शुरू हुई थी। जिला भर में योजना के दायरे में लगभग 40 हजार परिवार हैं, स्वास्थ्य विभाग का प्रयास है कि ज्यादा से ज्यादा पात्र व्यक्ति गोल्डन कार्ड बनवाएं ताकि उपचार के अभाव में कोई न रहे। उन्होंने बताया कि नागरिक अस्पताल में योजना के तहत बड़ी-बड़ी सर्जरी हो रही हैं। प्रदेश सरकार द्वारा मुहैया करवाई जा रही नागरिक स्वास्थ्य सेवाओं के प्रति आमजन का विश्वास बढ़ा है। नागरिक अस्पताल के कुशल सर्जनों द्वारा 21 हिप व तीन घुटने बदलने की सफलतापर्वूक सर्जरी की हैं। इनमें दो हिप व एक घुटना बदलने की सर्जरी आयुष्मान भारत योजना के तहत की गई है। इसके लिए नागरिक अस्पताल के सर्जन बधाई के पात्र हैं।
 — गजराज व संतोष देवी बोले, मिली बड़ी राहत 
झज्जर निवासी गजराज ने बताया कि बस में चढ़ते वक्त घुटने में चोट लगी थी, इसके बाद बाएं घुटने में दर्द काफी रहता था। घुटने पर शरीर का वजन भी नहीं दे पा रहा था। उन्होंने अखबारों के माध्यम से आयुष्मान भारत योजना के बारे में सुना था। वह नागरिक अस्पताल गए और डॉक्टरों से मिले। डॉ परमेंद्र फौगाट  व डॉ मनोज ने उनकी काफी मदद की और योजना के तहत निशुल्क ईलाज किया। ऑर्थो सर्जन डॉ परमेंद्र फौगाट और डॉ ललित ने उनका सफलतापूर्वक आपरेशन किया । आपरेशन उपरांत उन्हें बड़ी राहत महसूस हो रही है। बाहर ईलाज पर काफी पैसा खर्च होता। नागरिक अस्पताल में डॉक्टरों ने बिल्कुल निशुल्क और अच्छा ईलाज किया है। आयुष्मान योजना ने मुझे नई जिंदगी देने का काम किया है। वहीं संतोष देवी ने भी नागरिक अस्तपाल में घुटने बदलने की सर्जरी करवाई है। उन्होंने कहा कि नागरिक अस्पताल में अच्छी सुविधाएं हैं। आपरेशन के तीन बाद ही डॉक्टरों ने चलने के लिए बोल दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *