सैक्टर-4 पंचकूला में अर्थ एवं सांख्यिकी विश्लेषण विभाग द्वारा राज्यस्तरीय कार्यक्रम का आयोजन किया गया

Spread the love
पंचकूला , समाचार क्यारी, राजेश कुमार:-     राष्ट्रीय सांख्यिकी दिवस के उपलक्ष्य में आज योजना भवन सैक्टर-4 पंचकूला में अर्थ एवं सांख्यिकी विश्लेषण विभाग द्वारा राज्यस्तरीय कार्यक्रम का आयोजन किया गया। सांख्यिकी के पितामह प्रोफेसर प्रशांत चन्द्रा महालानोबिस की स्मृति में प्रतिवर्ष 29 जून को राष्ट्रीय सांख्यिकी दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस दिवस का इस वर्ष का विषय सतत् विकास तय किया गया था और इस कार्यक्रम अर्थ एवं सांख्यिकी विश्लेषण विभाग के साथ- साथ शिक्षा, स्वास्थ्य, ग्रामीण विकास, जन स्वास्थ्य, कृषि, लोक निर्माण व अन्य संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे।
इस कार्यक्रम की अध्यक्षता अर्थ एवं सांख्यिकी विश्लेषण विभाग के निदेशक डाॅ रविन्द्र सिंह मल्हान ने की और उन्होंने दीप शिखा प्रज्जवलित करके इस कार्यक्रम का शुभारंभ किया। इस मौके पर प्रौफेसर पी0सी0 महालानोबिस के जीवन व उपलब्धियों पर आधारित टैली फिल्म का प्रसारण किया गया।
डाॅ मल्हान ने इस अवसर पर कहा कि आर्थिक और समाजिक क्षेत्र के प्रमुख विषयों में सतत् विकास के लिए वैश्विक स्तर पर 17 लक्ष्यों को तय किया गया है। यह लक्ष्य तय करने में भारत की विशेष भूमिका रही है। इन लक्ष्यों में आर्थिक विकास के साथ- साथ शिक्षा, स्वास्थ्य, पेयजल, शिशु ओर माता मृत्यु दर, प्राकृतिक स्रोतों का संरक्षण, पर्यावरण प्रदूषण , गरीबी जैसे समाजिक सरोकार भी शामिल किए गए हैं।उन्होंने कहा कि किसी भी लक्ष्य को हासिल करने के लिए आंकड़ों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है।इसलिए आंकड़ों की स्टीक जानकारी, इन आंकड़ों के आधार पर 17 वैश्विक लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए बजट विभाजन, खर्च प्रक्रिया की मोनिटरिंग के लिए इंडिया डेशबोर्ड तैयार किया गया है। हरियाणा प्रदेश द्वारा इस क्षेत्र मे विशेष पहल करते हुए हरियाणा एसडीजी विजन 2030 का डैशबोर्ड 27 ंजून 2017 को ही लांच किया जा चुका है।
उन्होंने विभिन्न विभागों में बेहतर समन्वय की आवश्यकता पर बल देते हुए कहा कि इसके लिए काॅमन मैनजमैंट इंफरमेश्न सिस्टम जरूरी है और यह कार्य इस डैशबोर्ड के माध्यम से बेहतर तरीके से किया जा सकता है। इसके अलावा आज की इस बैठक में राज्य और जिला स्तर पर होने वाले सर्वे, उनकी सूचनाओं के आदान- प्रदान तथा भविष्य में सूचनाओं की जानकारी के लिए किए गए सुधार इत्यादि विषयों पर भी विस्तृत चर्चा की गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *