बस स्टैंड पर लोगों की जेब काटने वाला गिरोह चढ़ा पुलिस के हत्थे

पूछताछ करने पर 40 से 50 वारदातों का किया खुलासा 

करनाल (कर्मबीर पन्नु) : पुलिस ने गुप्त सूचना के आधार पर बस स्टैंड पर लगातार लूट की वारदात को अंजाम देने वाले जेबकतरों के गैंग को काबू किया है। सूचना मिलते ही पुलिस टीम ने छापेमारी कर तीन आरोपियों को काबू कर लिया। जिनकी तालाशी लेेने पर उनके कब्जे से डंडे, बिंडे, गंडासी और प्लकर बरामद हुए। पुलिस ने आरोपीयों के कब्जे से कुछ 70,000 रूपये की राशि भी बरामद की है। पुलिस ने आरोपी छापामारी कर आरोपी अजय उर्फ राजू पुत्र पोलाराम उर्फ राजेन्द्र वासी मौसुदपूर थाना हांसी जिला हिसार हाल, सुभाष चंद पुत्र बलबीर सिंह वासी रेंवर थाना गढ़ी जींद और राजेश कुमार पुत्र सुरजभान वासी असरफगढ़ थाना सदर जींद को गिरफतार कर लिया। गिरफतारी के बाद पूछताछ पर आरोपीयों ने बताया कि बसों और भीड़-भाड़ वाले ईलाके में लोगों की जेब काटते हैं और बसों में उनके बैगों से कीमती सामन भी चुरा लेते हैं और अभी वे लुटपाट के लिए ही योजना बना रहे थे। जिसपर उनके खिलाफ मामला दर्ज है। बीती 13 मार्च को पुलिस टीम द्वारा आरोपियों को अदालत के सामने पेश किया गया और पुलिस रिमांड हासिल किया गया। पुलिस द्वारा सख्ती से पूछताछ पर आरोपियों ने करीब 40/50 वारदातों का खुलासा किया। जिनमें से केवल 8 मामलों में ही मुकदमें दर्ज थे। इन 8 मामलों में आरोपीयों के कब्जे से कुछ 70,000 रूपये नकद बरामद किए गए।  जानकारी देते हुए थाना प्रभारी निरीक्षक हरजिन्द्र सिंह ने बताया कि यह गिरोह काफी लंबे समय से करनाल बस स्टैंड पर सक्रिय था और पुलिस काफी लंबे समय से इनकी तलाश कर रही थी। उन्होंने बताया कि किस प्रकार ए.एस.आई. सुखपाल और उनकी टीम ने लुटपाट की योजना बनाते आरोपियों को काबू किया और पुलिस पुछताछ पर आरोपीयों द्वारा करीब 40 से 50 वारदातों का खुलासा किया गया। आरोपीयों ने इन वारदातों में उन्होंने 50 रूपये से लेकर 1000/2000 रूपये तक लोगों की जेबों से निकाले हैं। प्रबंधक थाना ने कहा कि आरोपी भीड़भाड़ वाली बसों में चढक़र लोगों का ध्यान बंटाकर वारदात को अंजाम देते थे। कई बार वे लोगों के बैगों से किमती सामान भी निकाल लेते थे और बस बदलकर वहां से रफुचक्कर हो जाते थे। निरीक्षक हरजिन्द्र सिंह ने बताया कि बहुत सारी छुटपूट घटनाओं के संबंध में तो लोग शिकायत भी नही करते। लेकिन हमारे पास आरोपियों द्वारा कबुल की गई वारदातों में से 8 मामलें दर्ज हैं। जिनमें उन्हें रिमांड पर लेकर 70,000 रूपये बरामद किए गए हैं और आज रिमांड अवधी समाप्त होने पर उन्हें अदालत के सामने पेशकर जेल भेज दिया गया। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *