श्रीकांत शर्मा ने लगाए कांग्रेस पर ‘रामभक्तों को अपमानित’ करने का आरोप

Spread the love

उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री श्रीकांत शर्मा ने कांग्रेस पर ‘रामभक्तों को अपमानित’ करने का आरोप लगाते हुए बृहस्पतिवार को कहा कि कांग्रेस पूरी प्रक्रिया में विलंब करना चाहती है और वह मंदिर मुद्दे पर राजनीति कर रही है। शर्मा ने ‘भाषा’ से बातचीत में कहा कि कांग्रेस राम भक्तों की भावनाओं से खेल रही है और मंदिर मुद्दे पर राजनीति कर रही है। वह पूरी प्रक्रिया में विलंब करना चाहती है। उन्होंने कहा कि हम चाहते हैं कि उच्चतम न्यायालय में इस मामले की जल्द सुनवाई हो।

भगवान राम और राम मंदिर को लेकर कांग्रेस नेताओं मणिशंकर अय्यर और शशि थरूर के बयानों की निन्दा करते हुए ऊर्जा मंत्री एवं उत्तर प्रदेश सरकार के प्रवक्ता शर्मा ने कहा कि इन लोगों ने राम के अस्तित्व को नकारा, राम सेतु के अस्तित्व को नकारा और अब न्यायालय की प्रक्रिया में विलंब करा रहे हैं। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी का मानना है कि राम मंदिर देश के करोड़ों रामभक्तों की आस्था का प्रश्न है। कांग्रेस को इस पर राजनीति नहीं करनी चाहिए। शर्मा ने कहा कि कांग्रेस रामभक्तों को अपमानित कर रही है, जो शर्मनाक है और उसे इसके गंभीर परिणाम भुगतने होंगे।

उन्होंने कांग्रेस पर हमला जारी रखते हुए कहा कि पहले कहना था कि 2019 के चुनाव के बाद फैसला हो। अब न्यायाधीश को लेकर वकील राजीव धवन की दलील से प्रक्रिया में विलंब हुआ है। शर्मा ने कहा कि उनकी अदालत से अपील है कि मामले की सुनवाई जल्द से जल्द हो। उल्लेखनीय है कि उच्चतम न्यायालय में आज राम जन्मभूमि—बाबरी मस्जिद भूमि मालिकाना हक विवाद मामले की सुनवाई शुरू होते ही मुस्लिम पक्ष की ओर से पेश वरिष्ठ वकील राजीव धवन ने प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ को बताया कि न्यायमूर्ति यू यू ललित उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह की पैरवी करने के लिए 1994 में अदालत में पेश हुए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.