झज्जर पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी

मुठभेड़ के बाद अवैध हथियारों के साथ दो बदमाश गिरफ्तार

बहादुरगढ़ ,समाचार क्यारी संजय शर्मा/ रवि कुमार :- झज्जर पुलिस की टीम ने जानलेवा हमला करने की सूचना पर तत्परता से कार्रवाई करते हुए जान जोखिम में डालकर मुठभेड़ के बाद हथियारों सहित दो बदमाशों को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की गई है। जान से मारने की नियत से गांव आसौदा निवासी एक व्यक्ति पर किए गए जानलेवा हमला की सूचना पर एसएसपी श्री अशोक कुमार आईपीएस के दिशा निर्देश अनुसार थाना प्रबंधक आसौदा, अपराध जांच शाखा प्रथम व द्वितीय बहादुरगढ़ की संयुक्त पुलिस टीम ने मुस्तैदी के साथ कार्रवाई करके वारदात के दो दोषियों को कड़ी मशक्कत के पश्चात काबू करने में कामयाबी हासिल की गई। एसएसपी श्री अशोक कुमार आईपीएस के आदेशानुसार बहादुरगढ़ में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस के दौरान मामले की विस्तृत जानकारी देते हुए डीएसपी बहादुरगढ़ श्री अजायब सिंह ने बताया कि विशेष रुप से अपराधिक गतिविधियों की रोकथाम तथा वांछित अपराधियों को पकड़ने के लिए गठित की गई अपराध जांच शाखा प्रथम व द्वितीय बहादुरगढ़ तथा थाना प्रबंधक आसौदा की सयुंक्त टीम ने जान जोखिम में डालते हुए मुठभेड़ के बाद दो बदमाशों को अवैध हथियारों व एक ब्रेजा गाड़ी सहित काबू किया गया। उन्होंने बताया कि थाना प्रबंधक आसौदा उपनिरीक्षक बीर सिंह की टीम को सूचना मिली थी कि गांव आसौदा निवासी अमित पुत्र नरेंद्र को पुरानी रंजिश के कारण एक बाइक पर सवार होकर आए तीन बदमाशों ने गोलियां मारकर गंभीर रूप से घायल कर दिया वारदात की सूचना पर थाना प्रबंधक आसौदा व सीआईए की संयुक्त टीम द्वारा मुस्तैदी से कार्रवाई करके दो दोषियों को थाना लाइनपार केरिया गांव बराही से काबू करने में कामयाबी हासिल की गई उन्होंने बताया कि गांव बराही में कीकर के पेड़ों में घुसे एक आरोपी ने पुलिस टीम पर जान से मारने की नियत से फायर कर दिया जिसमें थाना प्रबंधक सहित सीआईए प्रभारी बाल बाल बचे। पुलिस टीम ने भी अपने बचाव में दो फायर किए पुलिस टीम ने जान जोखिम में डालते हुए एक आरोपी को काबू किया पकड़े गए आरोपी की पूछताछ में पहचान मोंटी पुत्र सुनील निवासी नंदी खेड़ा जिला शामली उत्तर प्रदेश हाल नंगली नजफगढ़ रोड चंचल पार्क दिल्ली के तौर पर हुई। पुलिस टीम ने मुस्तैदी से कार्रवाई करके एक अन्य आरोपी को भी  हथियार के साथ काबू किया  पकड़े गए दूसरे आरोपी की पहचान नवीन उर्फ काला पुत्र जोगिंदर निवासी गांव आसौदा टोडरान जिला झज्जर  के तौर पर हुई। पकड़े गए आरोपियों की मौका पर तलाशी ली गई तो दोनों बदमाशों के कब्जे से दो देशी पिस्तौल व चार कारतुस जिंदा बरामद किए गए। पकड़े गए आरोपियों के खिलाफ पुलिस पार्टी पर जान से मारने की नियत से फायर करने का मामला थाना लाइनपार बहादुरगढ़ में दर्ज किया गया ।
              उन्होंने बताया कि  वर्ष 2015 में संदीप पुत्र रोहतास निवासी आसौदा की हत्या गांव के ही रोहित उर्फ रेस्को पुत्र सुभाष ने अपने साथियों के साथ मिलकर की थी। हत्या के उपरोक्त मामले में सचिन पुत्र सुरेश व सुरेश पुत्र जिले सिंह निवासी आसौदा गवाह थे। वर्ष 2017 में रोहित के भाई मोहित ने अपने साथी विशाल के साथ मिलकर सुरेश को गवाही से रोकने के लिए उस पर गोलियां चलाई थी। जिसमें हत्या के प्रयास का मुकदमा दर्ज हुआ था। उसके बाद सुरेश के लड़के सचिन ने वर्ष 2017 में ही अपने पिता सुरेश व चचेरे भाई संदीप की हत्या का बदला लेने के लिए मनीष पुत्र जगबीर निवासी आसौदा जो रोहित का चचेरा भाई था की हत्या की थी । हत्या के इस केस में सचिन के अलावा सचिन का चचेरा भाई सुमित पुत्र नरेंद्र व इनका साथी कालू , सुमित का पिता नरेंद्र तथा मिथुन निवासी यूपी गिरफ्तार हुए थे। इसके पश्चात दोनों पक्षों का आपसी समझौता हो गया था। लेकिन वर्ष 2015 में हुए संदीप हत्याकांड में रोहित उर्फ रैस्को व इसके साथियों की अदालत द्वारा सजा कर दी गई। इसी रंजिश के चलते रोहित के कहने पर उसके साथियों ने सात जुलाई 2019 को विकास पुत्र सुरेश व सुरेश की पत्नी पर दो लड़कों ने गोलियां चलाई थी। जिस के संबंध में  हत्या के प्रयास का मुकदमा दर्ज किया गया था । उस वारदात के बाद रोहित उर्फ रेस्को के कहने पर उसके साथियों अश्वनी पुत्र जोगिंदर निवासी आसौदा व अश्विनी के भाई नवीन व यूपी निवासी ने मिलकर षड्यंत्र के तहत सुरेश के भतीजे अमित पुत्र कृष्ण व उसके पड़ोसी अशोक पुत्र बेग राम पर गांव आसौदा में जान से मारने की नियत से  बाइक पर सवार तीन युवकों ने गोलिया चलाई । उसके पश्चात जब अमित को इलाज के लिए लेकर जा रहे थे तो उनकी सैंटरो कार का अश्वनी वगैरा ने ब्रेजा गाड़ी से पीछा किया। उन पर फायर किए तथा उनकी गाड़ी में टक्कर मारी। जिससे पीड़ित अमित की गाड़ी पलट गई। आरोपीयान की गाड़ी भी संतर में जाकर पलट गई । जिसके बाद आरोपी पैदल पैदल हथियारों सहित खेतों में भाग लिए। वारदात की सूचना पर थाना प्रबंधक आसौदा बीर सिंह ने तत्परता से मौका पर पहुंचकर सभी सीआईए टीमों को सूचित किया । सीआईए बहादुरगढ़ की दोनों टीमें, सीआईए झज्जर व अन्य थानों से भी पुलिस फोर्स पहुंच कर घेराव किया। आरोपियों की पहचान नवीन पुत्र जोगिंदर निवासी आसौदा तथा मोंटी पुत्र सुनील निवासी नंदी खेड़ा उत्तर प्रदेश हाल दिल्ली हुई। दोनों आरोपी गांव बराही के किक्कर के जंगल में घुस गए। जिनको पुलिस टीम ने काबू करना चाहा तो मोंटी ने जान से मारने की नियत से पुलिस पर फायर कर दिए। पुलिस ने अपने बचाव में जवाबी फायर किया। मुठभेड़ में घायल आरोपी मोंटी व दूसरे आरोपी नवीन को मौका से ही काबू कर लिया गया। आरोपी मोंटी को उपचार के लिए पीजीआई रोहतक भिजवाया गया । आरोपी नवीन को गिरफ्तार कर लिया गया है। वारदात में शामिल अन्य आरोपियों की तलाश में पुलिस द्वारा गहनता से कार्रवाई अमल में लाई जा रही है। एसएसपी श्री अशोक कुमार आईपीएस के कुशल नेतृत्व में स्थानीय पुलिस ने पूरी तत्परता व मेहनत से कार्य करके घटना के तुरंत बाद अपनी जान की परवाह न करते हुए आरोपियों को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *