असम और बिहार में बाढ़ से 23 की मौत, नेपाल में बाढ़-भूस्खलन का कहर

देश के अधिकतर हिस्सों में भारी बारिश से हालात बेकाबू हो गए हैं। कई राज्य बाढ़ की चपेट में आ गए हैं। नदियों का जल स्तर बढ़ने के कारण अमस और बिहार के कई इलाके जलमग्न हो गए है। वहीं नेपाल में मूसलाधार बारिश के कारण आई बाढ़ और भूस्खलन में 18 महिलाओं समेत कम से कम 43 लोगों की मौत हो गई।

असम में 10 लाख लोग विस्थापित

उत्तरपूर्वी राज्य असम में मानसून की भारी बारिश से बाढ़ आ गई है। जिससे करीब 10 लाख लोग अपने घरों से विस्थापित हुए हैं और बीते 72 घंटे में कम से कम दस लोगों की मौत हो गई है। इस बात की जानकारी शनिवार को अधिकारियों ने दी है। अधिकारियों का कहना है कि आने वाले दिनों में स्थिति और खराब हो सकती है।

ब्रह्मपुत्र और उसकी सहायक नदियों के पानी से जूझ रहे असम राज्य के 33 जिलों में बाढ़ की गंभीर स्थिति बनी हुई है। जिससे राज्य के 1800 गांव प्रभावित हैं। राज्य सरकार के बाढ़ के बुलेटिन में कहा गया है कि अलग-अलग डूबने की घटनाओं में इन दस लोगों की मौत हुई है।

माना जा रहा है कि आने वाले दिनों में बारिश के चलते ब्रहम्पुत्र नदी का जल स्तर और बढ़ सकता है। असम के जल संसाधन मंत्री का कहना है कि बाढ़ की स्थिति अभी भी गंभीर बनी हुई है। असम चाय के बगानों के लिए जाना जाता है। ये राज्य सालों से बाढ़ और भारी बारिश का सामना कर रहा है। जिससे दर्जनों लोगों की जान जाती है और हजारों को अपने घरों से विस्थापित होना पड़ता है।

बिहार में 13 की मौत

बिहार में बाढ़ से मरने वाले लोगों का आंकड़ा 13 तक पहुंच गया है। अगले 24 घंटे में भारी बारिश का अलर्ट भी जारी किया गया है। यहां बाढ़ के कारण जन-जीवन पूरी तरह से अस्त-व्यस्थ हो गया है।

देश के कई राज्यों में बारिश के बाद आई बाढ़ की स्थिति को लेकर गृह मंत्री अमित शाह ने शनिवार को अधिकारियों के साथ उच्चस्तरीय बैठक भी की। इस बैठक में बाढ़ की स्थिति और इससे निपटने के लिए राज्य और केंद्रीय मंत्रालयों और एजेंसियों की तैयारियों की समीक्षा हुई।

राहत एवं बचाव कार्य के लिए राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) और राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल (एसडीआरएफ) को लगाया गया है।

नेपाल में बाढ़ से 43 लोगों की मौत

वहीं नेपाल के विभिन्न हिस्सों में मूसलाधार बारिश के कारण आई बाढ़ और भूस्खलन में 18 महिलाओं समेत कम से कम 43 लोगों की मौत हो गई और 20 अन्य घायल हो गए। पुलिस ने यह जानकारी दी। हिमालयन टाइम्स की रविवार को आई खबर के मुताबिक, बारिश से संबंधित घटनाओं में 24 लोग लापता हो गए। बारिश के कारण लोग विस्थापित हो गए और यातायात भी बाधित हुआ। देशभर में दक्षिणी मैदानी हिस्से के साथ-साथ पर्वतीय क्षेत्रों के 25 से ज्यादा जिलों में गुरुवार से भारी बारिश हो रही है जिससे 10,385 परिवार प्रभावित हुए।

पुलिस ने देशभर के कई स्थानों से 1,104 लोगों को बचाया। अकेले काठमांडू से 185 लोगों को बचाया गया। नेपाल पुलिस के अनुसार, खोज एवं बचाव अभियान के लिए देशभर में कुल 27,380 पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है।

खबर के अनुसार, बाढ़ पूर्वानुमान सेक्शन (एफएफएस) ने बताया कि मानसून सक्रिय है और देशभर में ज्यादातर स्थानों पर दो से तीन दिनों तक बारिश जारी रहेगी। मूसलाधार बारिश के कारण नदियां उफान पर हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *