एयरस्ट्राइक पर बोले, चीफ बीएस धनोआ कितने लोग मारे गए, ये गिनना हमारा काम नहीं

Spread the love

वायुसेना प्रमुख बी एस धनोआ ने पाकिस्तान के बालाकोट पर हवाई कार्रवाई पर सोमवार को स्पष्ट करते हुए कहा कि लक्ष्य को भेदा गया है और वायुसेना का काम हताहतों की गिनती करना नहीं है। वायुसेना प्रमुख ने यह भी कहा कि अगर जंगलों पर बम गिराये गये होते तो पाकिस्तान जवाबी कार्रवाई क्यों करता। श्री धनोआ ने मीडिया से कहा‘‘ वायुसेना के पास इस कार्रवाई में हताहत हुए लोगों की संख्या की कोई जानकारी नहीं है। इस बारे में सरकार बतायेगी। हम हताहत लोगों की गिनती नहीं करते,हमनें लक्ष्य को भेदा अथवा नहीं भेदा इसकी जानकारी रखते हैं।’’

उन्होंने कहा कि यदि लक्ष्य पर निशाना नहीं होता तो फिर विदेश सचिव इस पर आधिकारिक बयान क्यों जारी करते। यदि जंगल में बम गिरे होते तो विदेश सचिव इस पर बयान क्यों देते और पाकिस्तान जबाबी कार्रवाई क्यों करता। पाकिस्तान के बालाकोट में आतंकवादियों के ठिकानों को निशाना बनाये जाने से इंकार किए जाने पर श्री धनोआ ने कहा, ‘‘यदि हमने लक्ष्य को हिट करने की योजना बनाई थी तो उसे हिट किया है।’ श्री धनोआ ने पाकिस्तान की हवाई कार्रवाई का जबाव देने के लिए मिग 21 बाइसन का इस्तेमाल किए जाने पर कहा ‘‘ यह उन्नत विमान है,इसका राडार बेहतर है, इसमें हवा से हवा।’’

उन्होंने मिग 21 बाइसन के इस कार्रवाई में इस्तेमाल के संबंध में कहा,‘‘ जब इस तरह की स्थिति आती है तो हर किस्म के लड़कू विमानों को उपयोग में लाया जाता है। यह योजनाबद्ध आपरेशन नहीं था ’’ विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान के फिर से विमान उड़ये जाने के सवाल पर श्री धनोआ ने कहा,‘‘यह उनकी मेडिकल फिटनेस पर निर्भर करेगा कि वह दोबरा लड़कू विमान उड़ पायेंगे अथवा नहीं।’’ पाकिस्तान के एक एफ-16 विमान को मार गिराये जाने की जानकारी देते हुए वायु सेना प्रमुख ने कहा कि एफ-16 मिसाइल के अवशेष मिले हैं और पाकिस्तान ने निश्चित तौर पर इस विमान का इस्तेमाल किया है।

आपको बता दें कि 26 फरवरी की सुबह वायुसेना के मिराज विमानों ने पाकिस्तान में घुसकर जैश-ए-मोहम्मद के ठिकानों पर एयरस्ट्राइक की थी। वायुसेना ने पाकिस्तान के बालाकोट में जाकर आतंकी ठिकानों को हिट किया। ये हमला 14 फरवरी को जैश-ए-मोहम्मद के द्वारा पुलवामा में किए गए आतंकी हमले का जवाब था, जिसमें 40 जवान शहीद हुए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.