2050 तक बुजुर्गों की आबादी में 20 फीसदी का इजाफा होगा’

भारत में बुजुर्गों खासकर 60 साल या उससे अधिक की उम्र वाले लोगों की आबादी में 2050 तक करीब 20 फीसदी का इजाफा होने की संभावना है।  संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी मिशन में प्रथम सचिव पॉलोमी त्रिपाठी ने यहां बुजुर्गों से संबंधित विषय पर काम करने वाले एक कार्यकारी समूह के सोमवार को आयोजित कार्यक्रम के दौरान कहा कि भारत में वरिष्ठ नागरिकों की आबादी के प्रतिशत में हाल के वर्षों में इजाफा हुआ है और मौजूदा चलन को देखते हुए यह प्रतिशत और बढ़ने की संभावना है।

त्रिपाठी ने कहा, ‘हम ऐसी दुनिया में रहते हैं जहां लोग आज से पहले की तुलना में लंबी उम्र तक जी रहे हैं। ऐसा आकलन है कि 2050 तक 15 साल से नीचे आयुवर्ग के लोगों की तुलना में 60 साल से अधिक की उम्र के लोगों की संख्या अधिक होगी।’

उन्होंने कहा, ‘2050 तक 60 साल से अधिक की उम्र वाले लोगों की संख्या आठ प्रतिशत से बढ़कर करीब 20 प्रतिशत होने की संभावना है। वरिष्ठ नागरिकों के लिये सेवा की जरूरतों एवं सामाजिक सुरक्षा को पूरा करना, उनके अधिकारों की रक्षा करना तथा विकास प्रक्रिया में योगदान के लिये उन्हें समर्थ बनाना भारत की प्राथमिकता है।’

त्रिपाठी ने जोर देकर कहा कि उम्र बढ़ने की प्रक्रिया अपरिवर्तनीय और अकाट्य सत्य है। उन्होंने कहा, ‘हमें निश्चित रूप से युवावस्था में ही लोगों को समर्थ बनाना चाहिए ताकि उनका शारीरिक एवं मानसिक स्वास्थ्य बेहतर बना रहे और वे परिवार तथा समुदाय में बढ़ती उम्र के बावजूद सक्रिय भागीदारी करें।’

उन्होंने कहा कि इस संबंध में सरकारों द्वारा उठाये जाने वाले कदमों में नागरिक समाज, समुदाय और परिवार पूरक बन सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *