अमरनाथ यात्रा के रूट पर शहीद हुए रमेश कुमार

Spread the love

001 शहीद एएसआई रमेश कुमार 14 जनवरी 1990 को सीआरपीएफ में भर्ती हुए थे। 29 साल की उल्लेखनीय सेवा करते हुए एएसआई  के पद पर पंहुचे रमेश कुमार  सीआरपीएफ की 116 बटालियन की ब्रावों कंपनी में सेवारत थे। आईजीपी संदीप दत्ता ने बताया कि एएसआई रमेश कु मार अन्य चार जवानों के साथ अमरनाथ के रूट की सुरक्षा चैकिंग कर रहे थे। इसी दौरान दो आतंकियों ने हमला कर दिया। बहादुर रमेश व अन्य साथियों ने शहादत देने से पहले दोनों आंतकियों को मार गिराया। सीआरपीएफ को रमेश कुमार की बहादुरी पर गर्व है। रमेश कुमार के दो बेटे हैं उनसे हमने बात की है। सीआरपीएफ अपने जवानों को अपना परिवार मानती है और शहीद रमेश के परिजन को हर प्रकार की मदद सीआरपीएएफ की तरफ से दी जाएगी।

002   ग्रामीणों ने बताया कि रमेश कुमार कबड्ïडी व कुश्ती के शौकीन थे। जब भी गांव मेंं छुट्ïटी पर आते थे , तभी गांव में युवाओं को खेलों के प्रति प्रेरित करते थे और खेल कोटे से सेना व अद्र्घ सैनिक बलों में भर्ती होकर देश सेवा की भावना के प्रति प्रेरित करते थे।
003 गांव में बुधवार को जैसे ही रमेश कुमार की शहादत की खबर आई पूरे गांव में मातम का माहौल छा गया। गांव में सीआरपीएफ की ओर से सूचना आई कि वीरवार को रमेश कुमार का पार्थिव शरीर गांव में अंतिम संस्कार के लिए पंहुचेगा। गांव के युवा पूरे जोश के साथ अमरवीर रमेश के पार्थिव शरीर की आगवानी के लिए दिल्ली सीमा पर पंहुच गए और शहीद के पार्थिव शरीर को भारत मां के जयकारों व शहीद रमेश अमर रहेगा के नारों के साथ अगुवानी करते हुए गांव लेकर पंहुचे।
  004 शहीद रमेश कुमार का पार्थिव शरीर लगभग लगभग पांच बजकर 40 मिनट पर गांव में पंहुचा, प्रदेश के कृषि मंत्री औम प्रकाश धनखड़, सांसद डॉ अरविंद शर्मा सहित क्षेत्र से भारी सख्यां में लोग अपने लाडले वीर शहीद रमेश कुमार के अंतिम संस्कार में शिरकत करने पंहुचे। पूरा गांव वंदे मातरम और शहीद रमेश कुमार के नारों से गूंज उठा। कृषि मंत्री औमप्रकाश धनखड़ और सांसद डॉ अरविंद शर्मा ने भी शहीद के पार्थिव शरीर को अपना कंधा दिया।
005   अंतिम संस्कार में डीसी संजय जून, एसएसपी अशोक कुमार सहित अन्य अधिकारियों, विभिन्न सामाजिक , राजनीतिक, धार्मिक संगठनों के प्रतिनिधियों ने अंतिम संस्कार में भाग लिया। अंतिम संस्कार, अनिल मातनहेल, डीपी कौशिक, अनिल शाहपुर, पूर्व विधायक नरेश शर्मा सहित हजारों की सख्यां में लोगों ने भाग लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *