बढ़ गई दिल्ली कांग्रेस में फूट, शीला दीक्षित के इस नेता की नियुक्ति पर विवाद

अब दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष शीला दीक्षित ने रोहित मनचंदा की प्रदेश प्रवक्ता के पद पर नियुक्ति कर दी है. ऐसे में इस फैसले को पीसी चाको के विरोध के तौर पर देखा जा रहा है|
नई दिल्ली समाचार क्यारी
दिल्ली कांग्रेस में बुरा दौर खत्म होने का नाम ही नहीं ले रहा है. जहां एक और दिल्ली में कांग्रेस सत्ता से कोसों दूर चली गई है तो दूसरी ओर संगठन स्तर पर तमाम बदलाव करने के बाद भी नेताओं में आपसी खींचतान और झगड़े खत्म होने का नाम ही नहीं ले रहे हैं.
अब एक नया मामला दिल्ली कांग्रेस में गरमा गया है. दरअसल गुरुवार को दिल्ली कांग्रेस ने 3 नए प्रवक्ताओं की नियुक्ति की. लेकिन इसमें एक नाम ऐसा है जिसे लेकर बीते दिनों जमकर संग्राम हुआ था. रोहित मनचंदा जिन्हें शीला दीक्षित का करीबी बताया जाता है. उन्होंने बीते दिनों मीडिया के सामने आकर खुलकर पीसी चाको का इस्तीफा मांगा था. रोहित मनचंदा ने उस दौरान मीडिया से कहा था कि पीसी चाको ने उन्हें लिफ्ट से धक्का देकर दिल्ली कांग्रेस के दफ्तर में आगे से नजर ना आने को कहा था. लेकिन अब दिल्ली कांग्रेस ने रोहित मनचंदा की प्रदेश प्रवक्ता के पद पर नियुक्ति कर दी है. ऐसे में इस फैसले को पीसी चाको के विरोध के तौर पर देखा जा रहा है. अब देखना ये होगा कि आने वाले दिनों में दिल्ली कांग्रेस किन-किन संकटों से जूझती है.
बीते दिनों दिल्ली कांग्रेस में शीला दीक्षित और कांग्रेस के प्रभारी पीसी चाको के बीच खींचतान तब खुलकर सामने आई थी जब एक ओर शीला दीक्षित ने बगैर नेतृत्व को बताएं दिल्ली के सभी ब्लॉक स्तर के नेताओं को बदल दिया था तो दूसरी ओर उसके कुछ दिन बाद ही दिल्ली कांग्रेस के प्रवक्ता पीसी चाको ने शीला दीक्षित के आदेश को रद्द कर दिया था.
इसके कुछ दिन पहले दिल्ली प्रभारी पीसी चाको ने तीनों ही कार्यकारी अध्यक्षों को पत्र लिखकर शीला दीक्षित के बगैर भी स्वतंत्र रूप से बैठक लेने का निर्देश दिया था लेकिन इसके तुरंत बाद शीला दीक्षित ने तीन में से दो कार्यकारी अध्यक्षों के पर कतरते हुए उनसे तमाम महत्वपूर्ण जिम्मेदारियां वापस ले ली थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *