लोकसभा चुनाव 2019 : सातवें चरण में 59 सीटों पर मतदान समाप्त, शाम 6 बजे तक 60.21% हुई वोटिंग

Spread the love

लोकसभा चुनाव के अंतिम व सातवें चरण में रविवार को 59 सीटों पर मतदान समाप्त हो गया है। मतदान सात राज्यों और एक केंद्र शासित प्रदेश चंडीगढ़ में हुआ।  अंतिम चरण में 7 राज्यों बिहार, झारखंड, मध्य प्रदेश, पश्चिम बंगाल, पंजाब, हिमाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश तथा केंद्र शासित प्रदेश चंडीगढ़ में मतदान हुआ है। उत्तर प्रदेश और पंजाब की 13-13 सीटों, पश्चिम बंगाल की नौ, बिहार और मध्य प्रदेश की आठ-आठ, हिमाचल प्रदेश की चार, झारखंड की तीन सीटों और चंढीगढ़ की एक सीट पर मतदान हुआ है ।

लोकसभा चुनाव के सातवें चरण में 6 बजे तक कुल 60.21 फीसदी मतदान

– बिहार में 49.92%, हिमाचल प्रदेश में 66.18%, मध्य प्रदेश में 69.38%, पंजाब में 58.81%, उत्तर प्रदेश में 54.37%, पश्चिम बंगाल में 73.3%, झारखंड में 70.5%, चंडीगढ़-में 63.57% मतदान हुआ।

– लोकसभा चुनाव 2019 के 7 वें चरण में 7.27 करोड़ मतदाताओं ने हिस्सा लिया, जिसमें 3.47 करोड़ महिलाएं और 3,377 तीसरे लिंग के व्यक्ति थे : चुनाव आयोग

–   हिमाचल प्रदेश के सोलन में मतदान केंद्र संख्या 76 पर एक छात्र बैंड ने मतदाताओं का स्वागत किया।

–  हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह, उनकी पत्नी प्रतिभा सिंह और बेटे विक्रमादित्य सिंह ने मंडी संसदीय क्षेत्र के लिए वोट डाला।

–  आज लोकसभा चुनाव के अंतिम चरण का मतदान राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के 542 संसदीय क्षेत्रों में संपन्न हो गया है।

–  झारखंड के दुमका में मतदान केंद्र – 37 पर मतदान संपन्न होने के बाद मतदान अधिकारी ईवीएम और वीवीपीएटी को सील कर दिया गया है।

– इंदौर में 3 फुट लंबी विनीता मेहता ने मतदान केंद्र पर लोकसभा चुनाव 2017 के लिए अपना वोट डाला।

लोकसभा चुनाव के सातवें चरण में 5 बजे तक कुल 53.03 फीसदी मतदान

– बिहार में 46.75%, हिमाचल प्रदेश में 58%, मध्य प्रदेश में 59.75%, पंजाब में 50.49%, उत्तर प्रदेश में 47.21%, पश्चिम बंगाल में 64.82%, झारखंड में 66.64%, चंडीगढ़ में के 51.18% मतदान रहा।

– मतदान करने के बाद ममता बनर्जी ने कहा, आज सुबह से बीजेपी कार्यकर्ताओं और सीआरपीएफ ने हमारे राज्य में मतदान के जो अत्याचार दौरान किया है, मैंने पहले कभी नहीं देखा।

–  जादवपुर से बीजेपी लोकसभा के उम्मीदवार अनुपम हाजरा ने निरक्षर और अर्ध-साक्षर मतदाताओं को गुमराह करने और उन्हें उस बटन को दबाने के लिए संकेत देने के लिए ईवीएम में टीएमसी के चिन्ह पर एक विशेष निशान लगाया। उन्होंने कहा, पीठासीन अधिकारी मुझे बेवकूफ बनाने की कोशिश कर रहे हैं, उन्हें कुछ भी पता नहीं है। मैंने कुछ मतदाताओं से बात की, जिन्होंने कहा कि पीठासीन अधिकारी उनसे कानाफूसी कर रहे थे कि उन्हें वहीं बटन दबाया जाना चाहिए जो कि स्याही लगी है। यह स्पष्ट रूप से एक पूर्व नियोजित खेल है।

– हिमाचल प्रदेश में एसडीएम सोलन ने नालागढ़ में एक 78 वर्षीय विशेष रूप से विकलांग महिला को अपने मताधिकार का प्रयोग करने के लिए मतदान केंद्र तक पहुंचाया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *