विश्व जनसंख्या दिवस पर डीएलएसए सचिव अंकिता शर्मा ने रावमावि कबलाना में किया कानूनी जागरुकता शिविर को संबोधित

झज्जर, समाचार क्यारी ,सुनील कुमार /हिमांशु :-जिला विधिक सेवाएं प्राधिकरण द्वारा गुरूवार को गांव कबलाना में विश्व जनसंख्या दिवस के अवसर पर राजकीय वरिष्ठ विद्यालय में कानूनी जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया। जिला एवं सत्र न्यायधीश तथा जिला विधिक सेवाएं प्राधिकरण के अध्यक्ष कमल कांत के निर्देशानुसार आयोजित कैंप में स्कूली बच्चों को उनके कानूनी अधिकारों के प्रति जानकारी दी गई।
कायर्क्रम में मुख्य अतिथि तथा जिला विधिक सेवाएं प्राधिकरण की सचिव अंकिता शर्मा ने विद्याथिर्यों को विश्व जनसंख्या दिवस के बारे में जानकारी दी। कोई भी दिवस अंतराष्ट्रीय स्तर पर इसलिए मनाया जाता है कि ताकि आम जनता को किसी एक विशेष मुददे पर जानकारी दी जा सके और यह समझाया जा सके कि यह एक वैश्विक समस्या है। विश्व जनसंख्या दिवस लोगों को विश्व में बढ़ रहीं जनसंख्या के बारे में जागरूक करने तथा उन्हें परिवार नियोजन, लैंगिक समानता, मानव अधिकारों और मातृत्व स्वास्थय के बारे में जानकारी देने के लिए मनाया जाता है। उन्होंने बताया कि तीस वर्ष पहले 1989 में प्रोफेसर जकारिया के सुझाव पर विश्व जनसंख्या दिवस की शुरूआत संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा की गई जिसका उददेश्य था कि जनसंख्या को नियंत्रित किया जाए और जनसंख्या के बढऩे से हो रही समस्याओं का हल ढूंढा जाए।
श्रीमती अंकिता शर्मा ने बताया कि जनसंख्या भारत के लिए बड़ी चुनौती है और भारत में हर मिन्ट 25 बच्चें जन्म लेते है और यह आंकड़ा सिर्फ उन बच्चों का है जो अस्पतालों में पैदा होते है। सन 1952 में लैंगिक योजना आयोग ने बढ़ती आबादी को एक समस्या माना।  आज भारत की जनसंख्या 135 करोड़ हो गई है। यहीं नहीं विश्व में जनसंख्या असंतुलन भी है। जहां कुछ हिस्सों में आबादी बढ़ रही है वहीं दूसरे हिस्सों में आबादी घट रही है। जनसंख्या बढऩे का मूल कारण गरीबी तथा अशिक्षा है क्योंकि अशिक्षा की वजह से लोग परिवार नियोजन, मातृत्व स्वास्थय और लैंगिक समानता का महत्व नहीं समझ पाते है। जनसंख्या बढऩे से बेरोजगारी की समस्या भी बढ़ रहीं है।
जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की सचिव ने छात्रों से आग्रह किया कि वे अपने आसपास लोगों को बढ़ती जनसंख्या के बारे में अवगत कराए और उन्हें परिवार नियोजन, शिक्षा आदि का महत्व समझाए। उन्होंने छात्रों को नालसा (बच्चों के अनुकूल बाल कानूनी सेवाओं और उनकी सुरक्षा योजना) 2015 के तहत छात्रों को विभिन्न संवैधानिक अनुच्छेद और अधिनियमों की भी जानकारी दी। इस अवसर पर बाल संरक्षण के लिए सरकार द्वारा चलाई जा रहीं विभिन्न योजनाओं जैसे बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओं, सुकन्या समृद्धि तथा लाडली योजना आदि के बारे में जानकारी दी। जिला बाल संरक्षण अधिकार लतिका ने छात्रों को यौन अपराधों तथा उनकी रोकथाम के बारे में जानकारी दी।
कानूनी जागरुकता शिविर में स्कूल में नवीं से बारहवीं कक्षा के विद्याथिर्यों ने भागीदारी की। इस अवसर पर स्कूल के शिक्षणगण भी उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *