नीतीश कुमार ने शहीद रतन कुमार ठाकुर, शहीद पिंटू कुमार सिंह के परिजनों से की मुलाकात

बिहार के मुख्यमंत्री सह जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार ने पुलवामा आतंकी हमला में शहीद हुए सीआरपीएफ के जवान रतन कुमार ठाकुर और हंदवाड़ा आतंकी मुठभेड़ में शहीद हुए पिंटू कुमार सिंह के घर जाकर बृहस्पतिवार को उनके परिजनों से मुलाकात की. मुख्यमंत्री कार्यालय से जारी एक विज्ञप्ति में यह जानकारी दी गयी है. विज्ञप्ति के मुताबिक मुख्यमंत्री ने भागलपुर जिला स्थित सन्हौला प्रखंड के रतनपुर गांव पहुंच कर शहीद रतन कुमार ठाकुर की तस्वीर पर पुष्प अर्पित किया और उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि दी. उन्होंने ठाकुर के शोक संतप्त परिजनों से मुलाकात की और उन्हें सांत्वना दिया.

इसके बाद, नीतीश ने बेगूसराय जिले के बखरी प्रखंड में ध्यानचक्की गांव पहुंचकर शहीद पिंटू कुमार सिंह की तस्वीर पर पुष्प अर्पित किये और उन्हें अपनी भावभीनी श्रद्धांजलि दी. विज्ञप्ति में कहा गया है कि मुख्यमंत्री ने शहीद पिंटू कुमार सिंह के शोक संतप्त परिजनों से भी मुलाकात की और उन्हें ढाढस बंधाया. इस अवसर पर बड़ी संख्या में स्थानीय लोग भी उपस्थित थे.

शहीद रतन के परिजनों को स्वास्थ्य, शिक्षा व आवास की मिलेगी मुफ्त सुविधा 
बिहार के मुख्यमंत्री सह जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार गुरुवार को सीआरपीएफ के शहीद जवान रतन कुमार ठाकुर के गांव रतनपुर पहुंचे. गत 14 फरवरी को पुलवामा में हुए आतंकी हमले में रतन शहीद हो गये थे. शहीद रतन के घर के दरवाजे पर उतरते ही सबसे पहले मुख्यमंत्री ने शहीद की तस्वीर पर पुष्पांजलि अर्पित कर नमन किया. इसके बाद सीधे रतन के आंगन में जाकर परिजनों से मिल कर सांत्वना दी और उनकी बातें सुनी. शहीद के पिता राम निरंजन ठाकुर ने मुख्यमंत्री से कई मांगें भी की. इस दौरान तकरीबन 20 मिनट तक ठहरने के बाद मुख्यमंत्री विदा हो गये.

इसके बाद पत्रकारों से मुखातिब शहीद के पिता श्री ठाकुर ने बताया कि मुख्यमंत्री ने उन्हें सारी मांगें पूरी करने का भरोसा दिया है. मुख्यमंत्री ने परिजनों को स्वास्थ्य, शिक्षा व आवास की मुफ्त सुविधा देने का आश्वासन दिया है. होली के बाद वे भागलपुर शहर स्थित लालूचक भट्ठा स्थित अपने किराये के घर में जायेंगे. फिर जिलाधिकारी को एक मुहल्ले का चयन करने की जानकारी देंगे, जहां स्थायी आवास के लिए फ्लैट मुहैया कराने का निर्देश मुख्यमंत्री ने जिलाधिकारी को दिया है.

दूसरी ओर मुख्यमंत्री ने जिलाधिकारी को निर्देश दिया है कि गांव में बिजली की बेहतर व्यवस्था के साथ-साथ हर घर नल-जल की सुविधा दें. मुख्यमंत्री जब गांव से विदा हो रहे थे, तो ग्रामीणों ने उनसे सड़क के दोनों तरफ खड़े होकर रतन के नाम पर एक कॉलेज स्थापित करने की मांग की.

इससे पहले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार एकचारी उच्च विद्यालय के खेल मैदान में बने हेलीपैड पर हेलीकॉप्टर से उतरे. यहां अधिकारियों ने उनका स्वागत किया. रतनपुर के ग्रामीणों व परिजनों में इस बात की खुशी थी कि गम में डूबे गांव का दर्द महसूस करने खुद सूबे के मुखिया पहुंचे. ज्ञात हो कि इससे पहले आतंकी हमले में शहीद हुए निलेश नयन के गांव उधाडीह (सुलतानगंज) भी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पहुंचे थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *