ज्योतिषशास्त्र में वास्तुशास्त्र और हस्तरेखाशास्त्र का एक एहम स्थान होता है

Spread the love

हमारे ज्योतिषशास्त्र में वास्तुशास्त्र और हस्तरेखाशास्त्र का एक एहम स्थान होता है। जिसके जरिए हम अपने भाग्य के बारे में जान लेते हैं और कई परेशानियों से छुटकारा भी पा लेते हैं। जिस तरह से हाथ की रेखाओं से भाग्य, जीवन, सेहत और धन के बारे में भविष्यवाणी की जाती है ठीक उसी तरह से हाथ की रेखाएं यह भी बता देती हैं कि नौकरी और व्यापार किसे कब तरक्की मिलेगी।

ऐसे देखें हस्तरेखा- जानकारी के लिए बता दें हस्तरेखा ज्योतिष के अनुसार हथेली पर सूर्य रेखा और गुरु पर्वत का अध्ययन करके व्यक्ति के जीवन में मिलने वाली तरक्की का अनुमान लगाते हैं। गुरु पर्वत और सूर्य रेखा पर पड़ने वाले कुछ शुभ निशान से नौकरी और बिजनेस में किस्मत का साथ मिलता है। हम जीन संदेशो की बात कर रहे है उनमें अगर हथेली पर गुरु पर्वत के पास त्रिभुज का चिन्ह बना हो और सूर्य रेखा एकदम साफ हो तो ऐसे व्यक्ति को बहुत ही कम उम्र में नौकरी या बिजनेस में तरक्की मिलने लगती है।

यदि और संदेशो की बात करें तो वही जिस किसी की हथेली में सूर्य रेखा लंबी होती है उस व्यक्ति का समाज में बड़ा प्रभाव और उच्च पद हासिल करता है। इसी के साथ  गुरु पर्वत के ऊपर त्रिभुज या त्रिशूल का निशान बनने पर व्यक्ति अपने क्षेत्र में उच्च पद हासिल करता है। अगर जीवन रेखा से कोई लकीर चंद्र पर्वत की ओर जाए तब  वह व्यक्ति अपने जीवन के अलग-अलग अंतराल में तरक्की हासिल करता जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.