बीजेपी ने अपनी पहली लिस्ट में आठ पूर्वांचलियों को दिया मौका

Spread the love

बीजेपी ने शुक्रवार को दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए 57 उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी कर दी है. इस लिस्ट में तमाम खास बातें हैं बीजेपी ने अनुसूचित जाति (SC) के 11 उम्मीदवार जबकि 4 महिलाओं को चुनावी मैदान में उतारा है. पहली लिस्ट में बीजेपी ने कई पुराने चेहरों पर एक बार फिर दांव खेला है वहीं तीन ऐसे चेहरे उतारे हैं जो किसी दूसरी पार्टी से बीजेपी में शामिल हुए थे. इसके अलावा बीजेपी ने इस बार 26 नेताओं के टिकट काटे हैं.

57 नामों में सिर्फ 8 पूर्वांचली चेहरे

बीजेपी की पहली लिस्ट में यह बात भी देखने को मिली पार्टी एक ओर पूर्वांचल वोटों के सहारे दिल्ली पर कब्जा जमाने की योजना बना रही तो वहीं दूसरी ओर उन्हीं लोगों को टिकट देने में कंजूसी भी दिखाई है. जी हां, अब तक घोषित 57 उम्मीदवारों में बीजेपी ने सिर्फ 8 पूर्वांचली उम्मीदवार के नाम की घोषणा की है. जबकि पार्टी की ओर से दावा किया गया था कि इस बार विधानसभा चुनाव में बड़ी संख्या में पूर्वांचली उम्मीदवारों को मैदान में उतारा जाएगा.

आप ने उतारे 12 पूर्वांचली चेहरे

आपको बता दें कि दिल्ली में करीब 40 फीसदी वोटर पूर्वांचल क्षेत्र के हैं. लगभग 25 से 30 विधानसभा सीटों पर इनकी संख्या निर्णायक है. इसी बात को ध्यान में रखते हुए आम आदमी पार्टी ने 12 पूर्वांचली उम्मीदवारों को मैदान में उतारा है.

इन पूर्वांचली नेताओं को मिला मौका

दिल्ली विधानसभा चुनाव में जिन क्षेत्रों से पूर्वांचल के उम्मीदवारों को टिकट दिया गया है उनमें लक्ष्मी नगर से अभय वर्मा, विकासपुरी से सजय सिंह, मॉडल टाउन से कपिल मिश्रा, द्वारका से प्रद्युम्न राजपूत, बादली से विजय भगत, रिठाला से मनीष चौधरी, पालम से विजय पंडित और सीलमपुर से कौशलेंद्र मिश्रा हैं.

2015 में भी 8 पूर्वांचली चेहरों पर खेला था दांव

यहां आपको यह भी बता दें कि 2015 के विधानसभा चुनाव में भी बीजेपी ने सिर्फ 8 पूर्वांचली उम्मीदवारों पर दांव लगाया था. उस समय पार्टी की करारी हार हुई थी, जिसकी एक वजह पूर्वांचली वोटरों का आम आदमी पार्टी (आप) की तरफ झुकाव माना गया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *